Breaking News

बलिया में 'इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर' और 'सर्विलांस सेल' का गठन



- *जिलाधिकरी ने दोनों समितियों के कार्य का किया निर्धारण* 

बलिया: जनपद में कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर 'इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर' तथा 'सर्विलांस सेल' का गठन कर दिया गया है। जिलाधिकारी ने दोनों समिति का प्रभारी व अपर प्रभारी नामित करते हुए जिम्मेदारी भी तय कर दी है।

इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का प्रभारी संयुक्त मजिस्ट्रेट विपिन कुमार जैन व अपर प्रभारी डीआईओएस भास्कर मिश्रा को बनाया गया है। इसमें सदस्य के रूप में राजकीय महिला पॉलिटेक्निक की प्रधानाचार्य मलिक मोहम्मद सलीम व नायब तहसीलदार बांसडीह अंजू यादव हैं। विकास भवन से इसका संचालन होगा। यह समिति टेलीफोन की व्यवस्था के साथ 24 घंटे कंट्रोल रूम के रूप में काम करेगी। आम लोगों से प्राप्त सूचनाओं के अनुसार अन्य सभी विभागों से समन्वय बनाना, प्रतिदिन की हेल्थ बुलेटिन मीडिया व जन सामान्य की जानकारी के लिए जारी करना, महामारी से संबंधित कार्य कर रहे विभिन्न विभागों जैसे स्वास्थ्य, पुलिस, नगर विकास, ग्राम्य विकास की सूचना का संकलन करना तथा शासन में उच्चधिकारियों के स्तर से अपेक्षित दैनिक सूचना भेजना इस समिति का काम होगा। 

इसी प्रकार सर्विलांस सेल का प्रभारी एसडीएम सदर/संयुक्त मजिस्ट्रेट अन्नपूर्णा गर्ग को तथा अपर प्रभारी डिप्टी कलेक्टर सर्वेश यादव को बनाया गया है। सर्विलांस सेल में जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ एके मिश्रा, बीएसए शिव नारायण सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी सेराज अहमद सदस्य के रूप में होंगे। यह समिति प्रभावी कांटेक्ट ट्रेसिंग, सैम्पलिंग तथा शीघ्र जांच रिपोर्ट प्राप्त हो, इसके लिए समन्वय एवं पत्राचार का काम करेगी। समस्त एल-1 फैसिलिटी हॉस्पिटल में भर्ती होने से लेकर डिस्चार्ज होने तक का तिथिवार अपडेट रखेगी। साथ ही हॉस्पिटल में खानपान व अन्य सुविधाओं से संबंधित व्यवस्था का परीक्षण, रोगियों का फीडबैक नियमित रूप से प्राप्त कर उसके अनुसार सुधार करने की कार्यवाही भी करेगी। डीएसओ पोर्टल का अपडेटशन, कांटेक्ट ट्रेसिंग व सैम्पलिंग कार्य का फील्ड में सत्यापन भी सर्विलांस सेल का ही काम होगा। 

*किसी भी विभाग के अधिकारी-कर्मचारी से ले सकते हैं काम*

जिलाधिकारी ने यह भी कहा है कि दोनों समिति के प्रभारी अधिकारी कार्य का आकलन कर उसके हिसाब से अन्य विभाग के स्टाफ व संसाधनों का उपयोग भी कर सकेंगे। दोनों अधिकारी चाहें तो आवश्यकतानुसार अन्य विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों को भी सम्मिलित कर सकते हैं। सीएमओ द्वारा दोनों प्रभारी अधिकारी से संपर्क कर प्रत्येक टीम में एसीएमओ स्तर के अधिकारी व स्वास्थ्य विभाग के अन्य स्टाफ को भी नामित किया जाएगा। नियमित रूप से इन दोनों समितियों से स्वास्थ विभाग से संबंधित व्यवस्थाओं का परीक्षण सुनिश्चित कराया जाएगा।





रिपोर्ट धीरज सिंह

No comments