Breaking News

बाढ़ क्षेत्र में लगीं नावों की तहसील प्रशासन नहीं कर रहा अनुमोदन



रेवती (बलिया) : घाघरा का जलस्तर घटाव पर किन्तु खतरे के निशान से अब भी सवा मीटर ऊपर है। टीएस बंधा के उत्तर फ्लड जोन में बसे नवकागांव के पासवान बस्ती, देवपुर मठिया का हरिजन बस्ती, धूपनाथ और बैजनाथ यादव के डेरा गांव बाढ़ के पानी से पांच दिनों से घिरे हुए हैं । अभी तक कोई जिम्मेदार उनकी परेशानी देखने की कौन कहे जानकारी तक नहीं ले रहें हैं । लोगों को भोजन पानी के साथ मवेशियों के रखने तथा उनके चारा पानी को लेकर विकट समस्या का सामना करना पड़ रहा है बाढ़ से घिरे गांवों का संपर्क बंधा से कट गया है । 

नवकागांव के प्रधान प्रतिनिधि प्रदीप कुमार पासवान ने बताया कि लेखपाल के कहने पर उनके द्वारा बाढ़ से घिरे लोगों के लिए पांच नावे लगाई गई है । लेखपाल व नाविक बैरिया तहसील में तहसीलदार से नावों की स्वीकृति प्रदान करने के लिए कहा गया तो कहा गया कि अभी जिला बाढ़ प्रभावित घोषित नही किया गया है । ऐसे में धन आवंटित नहीं होने से नाव चलाने की अभी स्वीकृति नहीं प्रदान की जायेगी । 

 इस संबंध में  तहसीलदार के सियूजी नं 9454417966 पर काल किया गया तो स्वीच आफ रहा । 
इसी तरह धूपनाथ और बैजनाथ यादव के डेरा गांव में पूर्व प्रधान धूपनाथ यादव द्वारा भी लेखपाल के कहने पर नावे लगाई गई है । जिसकी स्वीकृति  तहसील से नही हो रही हैं । ऐसे में नाव लगाने वाले नाविकों में गहरा आक्रोश ब्याप्त है ।


*पूर्व विधायक ने लिया बाढ़ से घिरे गांवों का जायजा*

रेवती (बलिया): पूर्व विधायक जय प्रकाश अंचल ने दतहां से लेकर डेन्जर जोन तिलापुर सहित देवपुर मठिया रेगुलेटर तक बंधा का दौरा कर बाढ़ से घिरे गांवों का जायजा लिया । पूर्व विधायक ने बताया कि नदी के जलस्तर के घटाव बढ़ाव के साथ बंधे पर नदी का दबाव लगातार बना हुआ है । बंधे की सुरक्षा के लिए किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं है । तटवर्ती लोग रतजगा कर बंधे की स्वयं सुरक्षा कर रहें हैं । 

बंधे से उत्तर फल्ड जोन में बसे नवकागांव के पासवान बस्ती , देवपुर मठिया का हरिजन बस्ती, धूपनाथ और बैजनाथ यादव के डेरा गांव बाढ़ के पानी से घिर गये है । इनकी कोई खोज खबर तक  नही ले रहा है। भोजन पानी तथा मवेशियों के लिए चारा की समस्या उत्पन्न हो गई है । सैकड़ों एकड़ खेत बाढ़ के पानी से डूब गया है । बंधे के दक्षिण साईड एक दर्जन से अधिक गांवों की हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि बरसात के पानी से जलमग्न हो गई है । 

देवपुर मठिया रेगुलेटर से पानी का रिसाव दक्षिण साईड हो रहा है जिससे बरसाती पानी का लेबल और बढ़ता जा रहा है । प्रशासन व जिम्मेदार सभी मौन है । श्री अंचल ने जिला प्रशासन से तत्काल बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित कर किसानों के नष्ट हुई फसलों का मुआयना के साथ आर्थिक क्षति की भरपाई कराने की मांग की है ।



रिपोर्ट पुनीत केशरी

No comments