Breaking News

> > >

परंपरागत तरीके से मना छठ का महापर्व, क्षेत्र में चक्रमण करते रहे थानाध्यक्ष


दुबहड़, बलिया। क्षेत्र के विभिन्न गांवों  बसरिका पुर, ओझवलिया, दुबहड़, भरसर, जनाड़ी, बेयासी, अखार, नगवा, मोहन छपरा, सँवरू बांध, शिवरामपुर आदि में छठ पर्व का आयोजन किया गया। घोड़हरा गांव स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में शुक्रवार की शाम कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए परंपरागत तरीके से छठ पर्व का आयोजन किया गया। अपराह्न लगभग तीन बजे से ही छठ व्रती औरतें, बच्चे एवं पुरुष पारंपरिक तरीके से बना हुआ ठेकुआ एवं विभिन्न प्रकार के फलों से भरे डाल, दौरा एवं सुप आदि लेकर छठ घाट पर आना प्रारंभ कर घाट पर बने वेदी पर विधिवत पूजा अर्चना की। सूर्यास्त के समय भगवान भास्कर को भक्तिभाव से अर्ध्य देकर अपने परिजनों एवं शुभचिंतकों के लिए मंगल की कामना की। विद्यालय प्रांगण में स्थापित भगवान सूर्यदेव की मूर्ति, विभिन्न प्रकार के प्रकाशीय एवं डेकोरेशन का सजावट लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा था। इस अवसर पर रामेश्वर चौधरी पटेल, चेतन गुप्ता, दिनेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह, गौरव सिंह, अनिवेश सिंह गोलू, दिग्विजय सिंह नन्हक, शिवशंकर गुप्ता लाल जी, गप्पू सिंह, धीरज ठाकुर, रॉकी सोनी, प्रहलाद सिंह, विक्की सिंह, मुकुल सिंह, लिखू पांडेय, उप निरीक्षक लाल बहादुर प्रसाद, महिला कांस्टेबल विजयलक्ष्मी एवं चिन्मय गुप्ता आदि स्वयंसेवक के रूप में छठ व्रतियों के सेवा में लगे रहे। 



शांति व्यवस्था एवं सुगमता पूर्वक छठ व्रत संपन्न कराने के लिए दुबहड़ थाना प्रभारी अनिल चंद्र तिवारी अपने हमराहियों के साथ विभिन्न छठ घाटों का चक्रमण करते रहे। कोरोना संक्रमण काल एवं शासनिक-प्रशासनिक कोरोना महामारी से बचाव के लिए गाइडलाइंस के कारण पूर्व की भांति इस वर्ष छठ पर्व में रौनक नहीं रही।


रिपोर्ट:-नितेश पाठक

No comments