Breaking News

> > >

जाने क्यों युवाओं ने रानीगंज बाजार में जिलाधिकारी का प्रतीकात्मक पुतला दहन



बैरिया, बलिया । रानीगंज बाजार में ददरी मेला के समर्थन में नितेश सिंह के नेतृत्व में जिलाधिकारी का प्रतीकात्मक पुतला दहन किया गया। रविवार की सुबह छात्रनेताओं और समाजसेवियों ने मिलकर जिलाधिकारी हरि प्रताप साही का पुतला दहन किया। ददरी मेला न लगने से जिले के हर क्षेत्र में प्रशासन के विरोध में स्वर उठने लगे है। छात्रनेता नितेश सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन का यह आदेश की ददरी मेला नही लगेगा बागी बलिया की सभ्यता और संस्कृति पर एक कुठाराघात जैसा है। बागी बलिया की ऐतिहासिक धरोहर के रूप में ददरी मेला का आयोजन किया जाता है। अगर प्रशासन अपना आदेश वापस नही लेता है तो जिले के हर कोने में आंदोलन किया जाएगा। वही विनय सिंह समाजसेवी ने कहा कि सरकार के इशारे पर जिलाधिकारी काम कर रहे है, बिहार में चुनाव हो सकता है, लाखो की संख्या में लोग बुलाकर रैली की जा सकती है लेकिन बलिया में मेला नही लग सकता ये बात समझ से परे है। राजू वर्मा का कहना है कि बहुत से लोग मेला की कमाई से ही अपने परिवार का जीवन यापन करते है लेकिन मेला न लगने से उनके अपने परिवार के पालन पोषण का संकट उतपन्न हो गया है। मूर्तिकार सोनू जी का कहना है कि हम लोग मूर्ति निर्माण कर के ही एक साल का भोजन पानी की व्यवस्था करते है दशहरा में हम लोगो के पास कोई काम नही था अब एक साल कैसे कटेंगे। छात्रनेताओं और समाजसेवियो ने ददरी मेला के समर्थन में आंदोलन के कमर कस लिया है अगर प्रशासन अपना तुगलकी फरमान वापस नही लेता है तो आंदोलन को और उग्र किया जाएगा। विनय सिंह(समाजसेवी), राजू वर्मा, गणेश गुप्ता, मनीष गुप्ता, मु0 शहजाद, रमेश, अमरजीत गुप्ता, ठाकुर जी सर्राफ आदि लोग मौजूद रहे।



रिपोर्ट : वी चौबे

No comments