Breaking News

और जेल से छूटते ही किशोरी के साथ फुर्र हुआ युवक

 





लखनऊ। उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में मुस्लिम युवक पर किशोरी को बहला फुसलाकर भगा ले जाने का आरोप लगाया है। लड़की के परिजनों ने पुलिस और सोनभद्र में मेडिकल करने वाले डॉक्टर पर गंभीर आरोप लगाए हैं। लड़की के पिता की तहरीर पर 12 नवंबर को मामले में केस दर्ज किया गया था, लेकिन अभीतक ना तो आरोपी की गिरफ्तारी हुई और ना ही लड़की की बरामदगी हो सकी है। बता दें, आरोपी युवक मार्च महीने में इसी लड़की को भगाने के आरोप में जेल भेजा गया था।

मामला गोपीगंज थाना क्षेत्र के एक गांव का है। आरोप है कि ज्ञानपुर रोड निवासी एक युवक दूसरे धर्म की लड़की को बहला फुसलाकर भगा ले गया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया, लेकिन पॉक्सो एक्ट की धाराएं नहीं लगाई गईं। लड़की के पिता का आरोप है कि पुलिस और सोनभद्र में मेडिकल करने वाले डॉक्टर की मिलीभगत से उसकी बेटी को बालिग करार किया गया, जबकि आधार कार्ड और स्कूल के रिकॉर्ड के हिसाब से उनकी बेटी अभी महज 15 साल की है। पिता ने बताया कि बेटी का आधार कार्ड और स्कूल के रिकॉर्ड के मुताबिक, बेटी की जन्मतिथि सात दिसंबर 2005 है, लेकिन पुलिस इसे नहीं मान रही है।

पीड़िता पिता ने इस मामले में 12 नवंबर को थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करवाया था। 13 दिन बाद भी अभी तक पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी और नाबालिग की बरामदगी नहीं कर सकी है। लड़की के पिता का कहना है कि वह लगातार पुलिस थाने और चौकी का चक्कर लगा रहे हैं। उन्होंने बताया कि चौकी इंचार्ज के छुट्टी पर जाने और वापस लौटने के बाद कार्रवाई की बात कही जा रही है। बता दें, इसी साल मार्च महीने में भी इसी लड़की को भगाने के आरोप में युवक शाहिद को जेल भेजा गया था। पीड़ित पिता ने आला अधिकारियों से समुचित कार्रवाई की मांग की है।





डेस्क

No comments