Breaking News

> > >

बलिया के जिला महिला चिकित्सालय में जांच के नाम पर हो रही अवैध वसूली, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

 







 

बलिया। चिकित्साकर्मियों की बेजा हरकतों से अक्सर सुर्खियों में रहने वाला जिला महिला चिकित्सालय बुधवार को फिर चर्चा में आ गया। यहां, एक मरीज के तीमारदार ने लैब टेक्निशियन मनोज राय पर जबरन वसूली का आरोप लगाया। जब अस्पताल प्रशासन की ओर से उसकी सुनवाई नहीं हुई तो उसे भाजपा के नेता को मामले की जानकारी दी। भाजपा नेता ने अस्पताल प्रशासन से बात करने के साथ ही मामले की शिकायत आरजीआरएस पोर्टल पर की। इस बीच पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गया। तब जिला महिला अस्पताल की सीएमएस सुमिता सिन्हा ने मामले का संज्ञान लेते हुए आरोपी लैब टेक्निशियन से स्पष्टीकरण मांगते हुए नवंबर माह का वेतन रोकने का आदेश दिया। उन्होंने बताया कि आरोपी के खिलाफ उच्चाधिकारियों को पत्र भी लिखा गया है।


कोतवाली थाना क्षेत्र के रामदहिनपुरम निवासी मनीष पाण्डेय अपनी डेढ माह की भांजी का उपचार कराने बुधवार को जिला महिला अस्पताल गए थे। डॉ. विजय भास्कर ने बच्ची के रक्त परीक्षण की सलाह दी। उन्होंने बच्ची के तीमारदार को बताया कि सभी जांच निःशुल्क अस्पताल में ही हो जायेगी। मनीष ने आरोप लगाया कि जब वे जांच कराने के लिए पैथोलॉजी में गये तो वहां मौजूद लैब टेक्निशियन मनोज राय ने एक जांच की एवज में उनसे पचास रुपये लिए। दूसरी जांच के लिए एक निजी पैथोलॉजी में जाने की सलाह दी। उन्होंने आरोप लगाया कि अस्पताल की पैथोलॉजी में पैसों की वसूली की जा रही है। उन्होंने इसकी लिखित शिकायत सीएमएस डॉ. सुमीता सिन्हा से भी की।


 इस मामले में जिला महिला चिकित्सालय की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सुमिता सिन्हा का कहना है कि मरीज के तीमारदारों की शिकायत पर लैब टे‌क्निशियन मनोज राय से स्पष्टीकरण मांगा गया है। उसके नवंबर माह का वेतन बाधित कर दिया गया है। पैथालाजिस्ट पर जांच के एवज में धनउगाही के आरोप पहले भी लगते रहे हैं। इसके पूर्व उनसे स्पष्टीकरण भी तलब किया गया था, जिसका जवाब अभी तक नहीं मिला है। मामले की जानकारी पत्र के माध्यम से उच्चाधिकारियों को दी गई है।





 रिपोर्ट धीरज सिंह

No comments