Breaking News

> > >

ग्रामीण क्षेत्रों में इस माह अंत तक बनाए जाएं गोल्डन कार्ड

 


बलिया : आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में गोल्डन कार्ड बनाने के लिए अभियान शुरू हो गया है। दिसंबर 2020 के अंत तक कोई भी पात्र परिवार गोल्डन कार्ड से वंचित नहीं रहेगा। अभियान को गति देने के लिए आशा कार्यकर्ताओं को गोल्डेन कार्ड विहीन परिवारों में कम से कम एक गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए पांच रुपये प्रति परिवार प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। यह जानकारी अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी/नोडल अधिकारी डॉ. हरिनन्दन प्रसाद ने दी । उन्होने बताया कि योजना के तहत प्रति परिवार पाँच लाख का मुफ्त इलाज किया जाता है । 

डॉ प्रसाद ने बताया कि जीरो गोल्डन कार्ड वाले परिवारों में ज्यादा से ज्यादा लोगों के कार्ड बनाए जा रहे हैं। क्षेत्र की आशा, संगिनी, एएनएम व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है। पात्र लाभार्थी जन सेवा केन्द्रों में एक गोल्डन कार्ड के लिए 30 रुपये शुल्क देंगे और जनपद के सूचीबद्ध अस्पतालों में गोल्डेन कार्ड निःशुल्क बनाए जाएंगे । परिवार के सभी सदस्यों के अलग-अलग कार्ड बनेंगे। बनाए गए गोल्डन कार्ड के लिए संबंधित आशा कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। गोल्डन कार्ड विहीन परिवार में एक से अधिक सदस्यों का कार्ड बनवाने पर आशा को दस रुपये प्रति परिवार की दर से प्रोत्साहन राशि मिलेगी।

डा प्रसाद ने बताया कि जिले में 2, 21,836 परिवारों के गोल्डेन कार्ड बनाए जाने हैं जिसमें अभी तक 60,311 परिवारों के गोल्डन कार्ड बनाए जा चुके हैं । शेष परिवार ऐसे हैं जिसमें किसी भी सदस्य का गोल्डन कार्ड अभी तक नहीं बना है। अभियान में अधिक से अधिक संख्या में लाभार्थी परिवारों के गोल्डन कार्ड बनवाए जाएंगे। अब तक 1,51,103 लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बन चुके हैं जिसमें से 5817 लाभार्थी योजना के अंतर्गत सफल इलाज करा चुके हैं ।



रिपोर्ट धीरज सिंह 

No comments