Breaking News

> > >

अभियान चलाकर शत प्रतिशत गोल्डन कार्ड बनाने का निर्धारित किया गया लक्ष्य : डा० राकिफ


रतसर (बलिया) मुख्य चिकित्साधिकारी डा० जितेन्द्र पाल के निर्देशन में आयुष्मान भारत प्रधानमन्त्री जन आरोग्य योजना के अन्तगर्त पूरे प्रदेश में 15 दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक एक विशेष अभियान का आयोजन किया गया है। अभियान का मूल उद्देश्य है कि आयुष्मान भारत योजना के अन्तगर्त जितने भी परिवार को सम्मिलित किया गया है। उन सभी परिवारों को जोड़ा जाए। वर्तमान में गड़वार ब्लाक में 49120 परिवार इस योजना की सुची में सम्मिलित है परन्तु 5882 परिवारों के किसी भी सदस्य का गोल्डन कार्ड नहीं बना है। शासन के निर्देशानुसार ऐसे समस्त 5882 परिवारों को 15 दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक योजनाबद्ध तरीके से कार्य करते हुए परिवार के कम से कम एक सदस्य का गोल्डन कार्ड अनिवार्य रुप से बना दिया जाए। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा प्रभारी डा०राकिफ अख्तर ने बताया कि ब्लाक में सभी पर्यवेक्षक,एचवी, एएनएम, आशासंगिनी एवं आशा को ऐसे चिन्हित गोल्डन कार्ड की सूची उपलब्ध करा दी गई है। इनके सहयोग से ऐसे चिन्हित परिवारों के कम से कम एक सदस्य को प्रेरित करते हुए सीएचसी पर प्रत्येक मंगलवार एवं शनिवार को कमरा संख्या 49 सुबह 10 बजे सायं 4 बजे तक बनाया जा रहा है। इसके लिए प्रति व्यक्ति रुपया 30 का शुल्क निर्धारित किया गया है। लाभार्थी को गोल्डन कार्ड बनाने हेतु अपने साथ राशन कार्ड, आधार कार्ड एवं प्रधानमन्त्री द्वारा प्रेषित पत्र साथ में लाना है। डा० अख्तर ने बताया कि जिन ग्रामों में लाभार्थी परिवारों की संख्या ज्यादा है उन ग्रामों में सीएससी केन्द्र से समन्वय स्थापित करते हुए कैम्प का आयोजन किया गया है ताकि शत प्रतिशत लाभार्थी परिवारों का गोल्डन कार्ड बनवाया जा सके। उन्होंने बताया कि इस अभियान में प्रत्येक आशा को प्रोत्साहन राशि के रुप में रु० 5 (यदि लाभार्थी परिवार के एक सदस्य का गोल्डन कार्ड बनाया जाता है) एवं रु० 10 (यदि लाभार्थी परिवार के एक से ज्यादा सदस्य का गोल्डन कार्ड बनाया जाता है) दी जाएगी। इस अभियान की गतिविधियों एवं उपलब्धियों की प्रतिदिन गहन समीक्षा की जा रही है।


रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments