Breaking News

7 साल की मासूम से दरिंदगी, खून से लथपथ खेत में पड़ी मिली बच्‍ची

 




लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में सात साल की मासूम को पहले दरिंदे ने अगवा कर उसके साथ हैवानियत की, फिर उसे खेत में फेंककर फरार हो गया। खोजबीन में जुटे परिजनों को खून से लथपथ बच्‍ची खेत में पड़ी मिली। परिजन बच्ची को इलाज के लिए कोटवा सीएचसी ले गए, जहां से तत्काल जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिला चिकित्सालय से भी उसे मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया गया। बच्ची को मेडिकल कालेज में भर्ती नहीं किया जा रहा है, यह जानकारी मिलने पर खड्डा के विधायक जटाशंकर त्रिपाठी ने मेडिकल कॉलेज प्रशासन से बात करके उसके इलाज की व्यवस्था कराई। इसके अलावा, एसपी विनोद कुमार सिंह को भी इसकी जानकारी दी। बच्ची का हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने आरोपित युवक हरेंद्र प्रजापित (28) को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज करके तहकीकात शुरू कर दी गई है।

नेबुआ नौरंगिया थाना क्षेत्र के एक गांव के व्यक्ति की सात वर्षीय बच्ची शुक्रवार शाम करीब सात बजे घर से लापता हो गई। परिजनों ने उसकी काफी खोजबीन की, लेकिन वह नहीं मिली। तलाश करते करते रात के 11 बज गए, इसी दौरान गांव के पास सरसों के खेत से बच्ची के कराहने की आवाज सुनाई दी। आवाज सुनकर लोग मौके पर पहुंचे तो नजारा देखकर सन्‍न रह गए। बच्ची खून से लथपथ खेत में पड़ी हुई थी। परिजन बच्ची को इलाज के लिए कोटवा सीएचसी ले गए, जहां से तत्काल जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिला चिकित्सालय से भी उसे मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया गया।

यहां मेडिकोलीगल केस में पुलिस की मौजूदगी जरूरी बताते हुए बच्‍ची की भर्ती नहीं किया जा रहा था। बाद में खड्डा के विधायक जटाशंकर त्रिपाठी ने मेडिकल कॉलेज प्रशासन से बात करके बच्‍ची के इलाज की व्यवस्था कराई। इसके अलावा, एसपी विनोद कुमार सिंह को भी इसकी जानकारी दी। शनिवार सुबह एसओ पवन सिंह फोर्स लेकर गांव पहुंचे। सीओ शिव स्वरूप, डॉग स्क्वॉड टीम के साथ पहुंचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने इस मामले में आरोपित युवक हरेंद्र प्रजापित (28) को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित गोरखपुर में ई-रिक्शा चलाता है। शुक्रवार को ही गांव आया था। उसके खिलाफ दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज करके तहकीकात शुरू कर दी गई है।

डेस्क

No comments