Breaking News

> > >

जाने कहां पुलिस का अमानवीय चेहरा आया सामने


दुबहर, बलिया : एक तरफ जहां योगी सरकार प्रदेश में सुशासन का दावा कर रही है और प्रदेश की सरकार पुलिस को जनता का हितैषी बनाने में जुटी है वहीं दूसरी तरफ शिवपुर दीयर नई बस्ती 82 में पुलिसिया उत्पीड़न की लगातार खबरें प्रकाश में आ रही हैं। 

क्षेत्र के शिवपुर दियार नई बस्ती गांव में हुए बवाल को लेकर गुरुवार की रात भी पुलिस ने गांव में राहुल मिश्रा ,भुवर यादव , प्रशांत यादव, अर्जुन सिंह के घर  सहित कई जगह छापेमारी की इस दौरान लोगों ने पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस स्थानीय जनप्रतिनिधियों के इशारे पर दबिश के नाम पर घरों में घुसकर जमकर तांडव कर रही है।  तथा घरों में रखे सामान कुर्सियां, दरवाजे, बेड, पंखे  और अन्य इलेक्ट्रानिक उपकरणों को तहस-नहस कर दिया गया।

इस दौरान घर की महिलाओं ने बताया कि दबिश के नाम पर पुलिस प्रशासन द्वारा हम लोगों के साथ बत्तमीजी भी किया गया। पुलिस के  ऊपर महिलाओं ने कई गंभीर आरोप लगाए। 

गांव के बुजुर्ग त्रिलोकी यादव ने रोते हुए कहा कि ऐसा जुल्म अंग्रेजों ने भी नहीं किया था उन्होंने कहा कि पुलिस ने दबिश के नाम पर प्रताड़ना की सारी हदें पार कर दी।

गांव के बुजुर्ग त्रिभुवन यादव ने कहा कि पुलिस का अमानवीय चेहरा आज देखने को मिला इस दौरान गांव वालों ने पुलिसकर्मियों पर आरोप लगाते हुए पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। 

उक्त प्रकरण को लेकर लोगों में चर्चा है कि पुलिस का अमानवीय चेहरा एक बार फिर देखने को मिला।  कहीं ना कहीं पुलिस का यह अमानवीय कृत्य मानवाधिकारों का उल्लंघन करता नजर आ रहा है।


रिपोर्ट:-नितेश पाठक

No comments