Breaking News

किसानों ने दिखाई मानवता 20 फिट लंबे जख्मी अजगर को गोद में रखकर जख्मों पर लगायें मरहम

 


बैरिया (बलिया)। दोकटी के दियारे में लगभग 20 फीट लंबे अजगर को देख दियरांचल में खेतों में काम करने वाले लोगों में खलबली मच गई। अजगर को पहले चरवाहों ने देखा था और खेतों में काम करने वाले लोगों तथा गांव में इसकी चर्चा की। कौतूहल बस लोग इस अजगर को पहले दूर-दूर से देखें। उसकी किसी तरह की खतरनाक हरकत को ना देख लोग धीरे-धीरे उसके पास तक पहुंच गए। काफी पास पहुंचने पर खेत में काम कर रहे लोगों ने देखा की अजगर की पूंछ झुलसी हुई है। वह गंभीर वेदना में है। लोग उसके पास पहुंच कर उसे पानी पिलाए। अजगर के किसी खतरनाक हरकत को करते ना देख कर के लोग उसके काफी पास पहुंचकर उसके जख्मों को सहलाए। अजगर जब कोई हरकत नहीं किया तो लोग उसके घावों पर मरहम लगाए। उसके पास भी बैठे। उसको सहारा देकर उठाने की कोशिश की अजगर जीवित होते हुए भी कोई खतरनाक हरकत नहीं किया। कुछ लोग उसे मारने को उद्यत थे, लेकिन वहां उपस्थित काफी लोगों ने मारने से मना किया और इसकी सूचना वन विभाग को दी। खतरनाक वन्य जीव के सीधापन पर लोगों में उसके प्रति दया दृष्टि रही, और यहां तक भी हुआ की अजगर के सिर को कुछ दूर रख कर उसके शरीर के हिस्सों को अपने जगह पर उठा कर लोग उसके जख्मों को आहिस्ता आहिस्ता और मरहम लगाए। वाजिदपुर निवासी संजय सिंह, मुरली छपरा के प्रधान आदि लोगों ने बताया कि कुछ दिन पहले दियारे के जंगल में किसी ने आग लगा दी थी। जंगल का कुछ हिस्सा जला। शायद उसी आग में इस अजगर की पूंछ का काफी हिस्सा झुलस गया है। वेदना में वह जंगल से बाहर निकल आया है। लेकिन अजगर की हरकत किसी भी तरह से खतरनाक नहीं है। लोग तो उसके शरीर को जंघे पर रख कर के मरहम आदि लगाकर उपचार भी किए पानी भी पिलाया। बाद में ग्रामीणों ने अजगर को वन विभाग को सुपुर्द कर दिया, दो-चार दिन उपचार के बाद वन विभाग ने उस अजगर को फिर से दोकटी दियारे के जंगल में ले जाकर सुरक्षित छोड़ दिया है।


रिपोर्ट : वी चौबे

No comments