Breaking News

कस्बे का आवश्यक अंग होता है पटरी दुकानदार: जिलाधिकारी



- *पीएम स्वनिधि योजना का लाभ दिलाने को लगे कैम्प में बोले


- *पीएम स्वनिधि का उपयोग कर भविष्य को बनाएं बेहतर: सीडीओ


बलिया: जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने कहा कि पटरी व्यवसायी किसी भी कस्बे का आवश्यक अंग होता है। वह अपनी मेहनत के बूते समाज के बहुसंख्य लोगों तक सही दाम पर बुनियादी आवश्यकता की चीजों को उपलब्ध कराता है। इसीलिए भारत सरकार ने उनके सुव्यवस्थित व्यवसाय के लिए तमाम सुविधाएं दी है।


पटरी दुकानदारों को प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना का लाभ दिलाने के लिए टाउन हॉल में गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने ये बातें कही। बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य यही है कि पथ विक्रेता पीएम स्वनिधि के तहत आसानी से मिलने वाले लोन से व्यापार शुरू कर आर्थिक प्रगति करें। सरकार ने पटरी दुकानदारों के लिए दस हजार का सिक्योरिटी फ्री लोन, डिजिटल लेनदेन पर एक हजार दो सौ तक का कैशबैक, समय से भुगतान पर अगली बार बड़ा लोन व नियमित भुगतान पर सात प्रतिशत ब्याज सब्सिडी की सुविधा दी है। उन्होंने अपील किया कि व्यवस्थित व स्वच्छता का ध्यान रखते हुए व्यापार करें और समाज की जरूरत बनें रहें।  


सीडीओ विपिन जैन ने आवाह्न किया कि पीएम स्वनिधि के लोन का समुचित उपयोग कर अपने व अपने परिवार को बेहतर बनाने के साथ एक प्रतिष्ठित व्यापारी की तरह लोन जमा कर अपनी क्रेडिट को कायम रखें। सिटी मजिस्ट्रेट नागेंद्र सिंह, ईओ दिनेश विश्वकर्मा व पीओ डूडा अरविंद पांडेय के विशेष प्रयास से यह आयोजन हुआ।


स्वच्छता सम्बन्धी अपील पर पटरी दुकानदारों ने दिया भरोसा


डीएम श्री शाही ने कहा कि पथ विक्रेताओं से मेरा पुराना नाता रहा है। बनारस नगर आयुक्त के रुप में तैनाती के दौरान पथ विक्रेताओं की देन रही कि महज एक वर्ष में स्वच्छता के क्षेत्र में बनारस की रैंकिंग में आश्चर्यजनक सुधार दिखा। तब वहां हर पटरी दुकानदार लाल व नीली डस्टबिन व दफ़्ती पर स्वच्छता जागरूकता सन्देश लेकर बैठता था। उसी जागरूकता की वजह से वह व्यापक सुधार हुआ। यहां भी आप सबके सहयोग से ऐसा हो सकता है। पटरी दुकानदारों ने सामूहिक रूप से तेज आवाज में आश्वस्त किया कि बलिया में भी हर ठेले पर ऐसा मिलेगा।


डिजिटल भुगतान की दी गई जानकारी


डूडा के परियोजना निदेशक अरविंद पांडेय ने डिजिटल ट्रांजेक्शन, जैसे क्यूआर कोड के जरिए कैसे कोई भुगतान प्राप्त करें, आदि के बारे में विस्तार से बताया। प्रेक्टिकल रुप में एक रुपये का ट्रांजेक्शन करके सबको दिखाया भी गया। कहा, इस डिजिटल युग में यह बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर सभी पटरी दुकानदारों में क्यूआर कोड का वितरण भी हुआ। बैंक से आए प्रतिनिधि ने बैंकों की ओर से कोई दिक्कत नहीं होने देने का भरोसा दिलाया। अभिलेख के रूप में स्ट्रीट वेंडर का प्रमाण पत्र, आधार कार्ड व दो फोटो लेकर ही बैंक जाने को कहा।


सैकड़ों पथ विक्रेताओं का हुआ पंजीकरण, प्रमाण-पत्र का वितरण


कैम्प में पथ विक्रेताओं का पंजीकरण हुआ और नगरपालिका की ओर से जारी प्रमाण-पत्र का वितरण जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही व सीडीओ विपिन जैन ने किया। कार्यक्रम में सिटी मजिस्ट्रेट नागेंद्र सिंह, चेयरमैन अजय कुमार, ईओ दिनेश विश्वकर्मा, पटरी दुकानदार समिति के सचिव विकास पांडेय लाला, उपाध्यक्ष अशोक कुमार व सैकड़ों की संख्या में पटरी दुकानदार मौजूद थे।




रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments