Breaking News

लालबालू विवाद : मांझी के जयप्रभा सेतु पर पहुंचे पुलिस अधीक्षक डाक्टर विपिन टाडा, एसएचओ से जताई नाराजगी

 


बैरिया(बलिया) ।  पुलिस अधीक्षक डाक्टर विपिन टाडा मंगलवार को दोपहर बाद मांझी के जयप्रभा सेतु के उस स्थान पर पहुच गए जहाँ बिहार से लालबालू लेकर आने वाले ट्रकों को मांझी जयप्रभा सेतु के निकट कुछ युवकों द्वारा यह कहते हुए रोक दिया गया कि जब ट्रेक्टर वालों को लालबालु नही ले आने दिया जाएगा तब ट्रक भी बिहार से यूपी में नही आएगा।और पुलिस द्वारा बालू लेकर आने वाले ट्रकों को सरक्षण देने का आरोप लगाते हुए इस संदर्भ में कुछ युवकों द्वारा पुलिस अधीक्षक को ट्वीट कर दिया गया।यह घटना सोमवार की देर रात की है तब से मंगलवार की दोपहर तक एक भी लालबालु से लदा ट्रक यूपी सीमा में नही प्रवेश किया।फलस्वरूप बिहार के सीमा में मांझी से रिबिलगंज तक लगभग छह किमी लम्बी ट्रकों की कतार लग गयी जिससे वहां जाम की स्थिति उतपन्न हो गयी।प्रकरण को लेकर पुलिस अधीक्षक डाक्टर विपिन टाडा मंगलवार को दोपहर बाद मांझी के जयप्रभा सेतु के उस स्थान पर पहुच गए जहा रात में युवकों ने ट्रकों को रोका था।प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए ट्रक चालकों व ट्रक रोकने वालों से बात की तब मौके पर मौजूद एसएचओ संजय त्रिपाठी से प्रकरण को पूछा एसएचओ ने बताया कि यह लोग ट्रेक्टर से लालबालु बिहार से ले आने की व्यवस्था कायम रखना चाहते है।जबकि खनन विभाग इस पर रोक लगा रखा है।क्योंकि ट्रेक्टर के पास व्यपारिक कार्य करने के लिए कागजात नही होते है वह कृषि कार्य के लिए है।इस पर पुलिस अधीक्षक ने शक्ति दिखाते हुए कहा कि जो नियम संगत होगा वही होगा।उन्होंने कानून तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई नही करने पर एसएचओ के प्रति नाराजगी व्यक्त की।पुलिस अधीक्षक ने वैध कागजातों के साथ बिहार सीमा में खड़े ट्रकों को यूपी सीमा में गंतव्य तक जाने का निर्देश दिया और उनकी मौजूदगी में ही ट्रकों का काफिला बालू लेकर यूपी सीमा में आ गए।पुलिस अधीक्षक ने स्पस्ट किया कि जल्द ही मांझी के जयप्रभा सेतु के निकट सीसीटीवी कैमरा लगाए जाएंगे वही किसी को भी गैरकानूनी कार्य करने नही दिया जाएगा।अगर किसी ने भी गैरकानूनी कार्य करने का प्रयास किया तो उसे उसका परिणाम भुगतना पड़ेगा।लगभग एक घण्टे तक मौके पर मौजूद होकर उभय पक्षो से उनकी बातें पुलिस अधीक्षक ने सुनी और सबको अस्वस्थ किया कि किसी से कोई भेदभाव नही होगा।



रिपोर्ट : वी चौबे

No comments