Breaking News

पुलिस ने दो दर्जन गोवंशीय पशुओं के साथ दो गौतस्करों को किया गिरफ्तार



बलिया : पुलिस अधीक्षक बलिया के निर्देशन में अपराध एवं अपराधियों के रोकथाम हेतु चलाये गये अभियान में थाना बांसडीह बलिया पुलिस को मिली सफलता । 

उल्लेखनीय है कि जनपद में गो तस्करी करने वालो के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के क्रम में सोमवार को थाना बांसडीह बलिया के उ0नि0 रविन्द्र नाथ पाण्डेय व हमराहीगण द्वारा मुखबिर की सूचना पर दबिस देकर 02 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 07 राशि गोवंशीय पशुओं को बरामद किया गया ।

उक्त दबिस थाना बांसडीह अन्तर्गत ग्राम हुसेनाबाद में दी गयी जहाँ अभियुक्त पैकड़ नट पुत्र फाहू नट व देवानन्द नट पुत्र पैकड़ नट निवासीगण सुरहिया थाना सहतवार जनपद बलिया हुसेनाबाद के मीडिल स्कूल के पीछे गोवंशीय पशुओं को छिपाए हुए थे । उक्त दोनो अभियुक्त गोवंशीय पशुओं को वध हेतु बिहार ले जाने की फिराक में थे ।

  उपरोक्त दोनो के विरुद्ध थाना बांसडीह पर अभियोग पंजीकृत कर आवश्यक कार्यवाही करते हुए न्यायालय भेजा गया । 




बैरिया(बलिया)।स्थानीय पुलिस ने सोमवार को 20 गोवंशो को लेकर बिहार के रास्ते बंगाल के बूचड़ खानों में बध के लिए जा रहे ट्रक को गोवंश समेत बैरिया के दलित बस्ती के निकट रविदास मंदिर के पास एनएच 31 पर पकड़ लिया।किन्तु ट्रक का चालक, परिचालक व गो वंश तस्कर भागने में सफल हो गए।एसएचओ संजय त्रिपाठी ने बताया कि यूपी 50 एफ 4272 नम्बर की ट्रक आजमगढ़ से 09 साढ़,05 बैल,05 गाय व एक बछिया को लादकर बिहार के रास्ते बंगाल जा रहे थे।तभी चौकी इंचार्ज बैरिया गरिजेश प्रताप सिंह ने मुखविर की सूचना पर घेरा बंदी कर ट्रक को पकड़ लिया।लेकिन चालक परिचालक व तस्कर ट्रक से उतर कर भाग खड़े हुए।एसएचओ ने बताया कि ट्रक में इस तरह गोवंश लादे गए थे की तीन बैलों की मौत ट्रक में ही हो गयी है।मरे हुए बैलों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है वही शेष गोवंशो को दोकटी थाना क्षेत्र के भगवानपुर  अवस्थित गोआश्रय केन्द्र में भेजवाया गया है।ट्रक मालिक व ट्रक चालक के खिलाफ गोबध अधिनियम व पशुक्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

स्थानीय लोगों के अनुसार काफी दिनों से गोवंशो की तस्करी माझी के जयप्रभा पुल के रास्ते बिहार व बंगाल के लिए जारी थी जिसमे एक ट्रक को गोवंशो के शहीत सोमवार को बैरिया पुलिस ने पकड़ने में सफलता प्राप्त की है।



रिपोर्ट : धीरज सिंह, वी चौबे

No comments