Breaking News

शिव विवाह की कथा सुन भावविभोर हुए श्रद्धालु


रतसर (बलिया) जनऊपुर गांव स्थित हुलहुल बाबा मन्दिर परिसर में आयोजित नौ दिवसीय रुद्र महायज्ञ एवं रामकथा के तीसरे दिन रविवार को यज्ञाचार्य के निर्देशन में विधि विधान से यज्ञकुण्ड में अरणी मंथन (अग्नि प्राकट्य) साधना सृजित की गई। इस दौरान साक्षात अग्निदेव यज्ञकुण्ड में विराजमान हो गए। काशी से आए यज्ञाचार्य पं०यज्ञेश उपाध्याय व पं० गनेश तिवारी के मन्त्रोचार की गूंज से माहौल भक्तिमय हो गया था। इस दौरान महिलाओं व पुरुषों ने यज्ञ मण्डप की परिक्रमा की। सांध्य बेला में कथावाचक संत बालक दास जी महाराज का संगीतमय प्रवचन हुआ। उन्होंने शिव पार्वती विवाह पर प्रकाश डाला। प्रवचन के दौरान श्रद्धालु भगवान भोले शंकर के विवाह की कथा सुन भावविभोर हो गए। उन्होंने कहा कि शिव के दरबार में दुश्मन भी दोस्त बनकर रहते है। यह सब शिव की लीला का रहस्य है। अच्छा मानव बनने के लिए प्रतिदिन भगवान की अराधना करना चाहिए। वृन्दावन बरसाने से आयी रास मण्डली के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत कृष्ण सुदामा चरित्र की करुण प्रस्तुति ने श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। यज्ञ समित के मुख्य संरक्षक अनाम दास जी महाराज के तत्वाधान में चलाए जा रहे भण्डारा में सैकडों लोग प्रसाद ग्रहण कर रहे है। यज्ञ परिसर के निकट प्रसाद, श्रृंगार, मिठाई, खिलौने एवं चर्खी आदि की काफी संख्या में सजी दुकानों पर हजारों लोग खरीददारी करते देखे जा रहे है। यज्ञ के सफल संचालन में पिन्टू सिंह चौहान, आनन्द प्रकाश, मिथिलेश पाण्डेय, राकेश पाण्डेय, शिव जी गुप्ता, राधेश्याम पाण्डेय आदि मौजुद रहे।


रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments