Breaking News

बलिया में विभिन्न जगहों पर लगी आग में सैकड़ों एकड़ फसल, रिहायसी मड़हा जलकर राख व विवाहिता जली

 



बैरिया। थाना क्षेत्र के भोज के टोला में गणेश यादव के रिहायसी झोपड़ी में रविवार को अज्ञात कारणों से आग लग गयी।देखते ही देखते आग विकराल रूप ले लिया और बगल के कृष्णा यादव का रिहायसी झोपड़ी भी जलकर खाक हो गया।आग में एक दुधारू जर्सी व एक गाभिन जर्सी गाय गम्भीर रूप से झुलस गई है।वही घर में रखा सारा सामान भी जलकर नष्ट हो गया है।ग्रामीणों के मदद से किसी तरह गम्भीर रूप से झुलसी गायों को बाहर निकाला गया है,हलाकि गायों की स्थिति अत्यंत ही गम्भीर है।ग्रामीणों ने ही किसी तरह आग पर काबू पाया।सूचना पर पहुचे चिकित्सक गायों के इलाज में लगे हुए है वही क्षेत्रीय लेखपाल लालसाहब क्षतिपूर्ति का आंकलन कर रिपोर्ट तहसील प्रशासन को सौप दिया है।


 गेंहू की खेत में लगी आग 60 एकड़ में खड़ी फसल जली



 बैरिया(बलिया)।थाना क्षेत्र के चाईछपरा दीयारे के गेंहू के खेत मे रविवार को अचानक आग लग जाने से लगभग 60 एकड़ खड़ी गेंहू की फसल जलकर राख हो गयी।सूचना के बावजूद मौके पर फायरब्रिगेड की गाड़ी नही पहुच सकी।ग्रामीणों के घण्टो मशक्कत के बाद दोपहर एक बजे के बाद आग पर काबू पाया जा सका।

खेतों की कटाई कर रहे किसानों ने बताया कि अचानक झूलन सिंह निवासी मधुबनी के गेंहू की खड़ी फसल से आग की लपटें उठने लगी,जो मधुबनी निवासी रामनरायण सिंह,चाईछपरा निवासी दुखहरन यादव,रामाशंकर यादव,हरेराम यादव,भरत यादव,देवमुनि यादव,गणेश यादव सहित दर्जनों किसानों के खेतों को अपने आगोश में ले लिया और देखते ही देखते लगभग 60 एकड़ क्षेत्रफल में खड़ी गेंहू की फसल को चपेट में ले लिया।और सभी किसानों की फसल जलकर राख हो गया।किसानों ने बताया कि रेलवे लाइन के उत्तर तरफ जंगली बाबा के स्थान से जयदास बाबा के इनार तक लगभग 60 एकड़ गेंहू की फसल जलकर राख हो गयी।लोगों का कहना है कि इस आग से और तबाही हुई होती किन्तु बहुत किसानों ने अपनी फसल कटवा ली है।उनके गेंहू के डंठल ही जले है आस-पास के गांवों के लोगो के घण्टों प्रयास के बाद आग पर काबू पाया जा सका।इस आगलगी की घटना में लाखों रुपये की गेंहू की फसल जलकर खाक हो गयी है।सूचना के बावजूद कोई भी राजस्व कर्मी अथवा फायर ब्रिगेड के गाड़ी मौके पर नही पहुची थी।इसी क्रम में करमानपुर गांव में रविवार की सुबह बिजली की तार से निकली चिंगारी से भुवाल शर्मा व रमेश शर्मा की एक एकड़ गेंहू की फसल रविवार को जलकर राख हो गयी।ग्रामीणों के ततपरता के कारण आग पर तत्काल काबू पा लिया गया,जिससे बड़ा नुकसान नही हो सका।


बैरिया।दोकटी थाना क्षेत्र के धतुरीटोला गांव में शनिवार की देर रात मोबाइल की बैटरी फटने से लगी आग से घर मे आग लग गयी,जिससे लाखों रुपये की सम्पत्ति जलकर खाक हो गया।

ग्रामीणों के अनुसार नीरज सिंह अपनी मोबाइल रात में ले आकर फ्रिज पर रख दिये थे और सोने चले गए थे।आधी रात को मोबाइल की बैटरी फटने से घर मे आग लग गयी,और देखते ही देखते फ्रिज,गैस चूल्हा,सिलेंडर शहीत हजारों रुपये का समान जलकर राख हो गया।


दलनछपरा । दोकटी थाना क्षेत्र के खावासपुर के पुरवा बाबू के डेरा गांव में रविवार को लगी आग में पांच दर्जन से अधिक परिवारों की रिहायसी झोपड़ीयां जलकर नष्ट हो गई वहीं इस आग के चपेट में उसने से विवाहित पुत्री सहित उसके दो पुत्र बुरी तरह झुलस गए।ग्रामीणों ने कड़ी मसक्कत कर आग पर काबू पाया।

आग दोपहर दो बजे महाबीर यादव के झोपड़ी से अचानक आग की लपटें उठाने लगी जबतक लोगों की नजर उसतरफ जाती तेज पछुवा हवा के चलते आग विकराल रूप धारण कर लिया।और अपने आगोश में ढेला यादव,हरख यादव,हरेंद्र यादव,तेज यादव,जिहुर यादव,जगत यादव,तुलसी यादव,सुनील यादव,अनिल यादव,सुदर्शन यादव,अरुण यादव,लालबहादुर यादव,जगमोहन यादव,जता यादव,नंदलाल यादव,मनोज ,लालसाहब,बिनोद,चंद्रमा,मंजी,हरनारायण,नारद यादव,झक्कड़ गोंड़,रामकेवल गोंड़,बच्चा गोंड़,सोनू गोंड़,छट्ठू गोंड़,चनेश्वर यादव,मुन्ना यादव,सियाधार यादव,धुरंधर यादव,लक्ष्मण यादव,अनिल यादव,अरुण,कृपा,टूना,अवधेश,नवमी,सलेंदर,छबि,संजय,मंजय,विसंभर यादव सहित पाँचदर्जन परिवारों की रिहायसी झोपड़ियाँ जलकर पूरी तरह नष्ट हो गई।ग्रामीणों ने कड़ी मसक्कत कर आग पर कसाब पाया।तब दो घंटे बाद चार बजे फायर ब्रिगेड की छोटी गाड़ी पहुंचकर राख का ढेर बुझाया। इन परिवारों के सामने भुखमरी की समस्या आ गई है।आग के चपेट में आने से तुलसी यादव बछड़ा,व महाबीर यादव की तीन बकरियां झुलस कर मर गई।सूचना पर पहुंचे बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह ने पीडितपरिवारों को सांत्वना दिया व उपजिलाधिकारी बैरिया से फोनकर तत्काल मदद करने को कहा।वहीं गांव निवासी सोमारू यादव ने सभी पीड़ित परिवारों कोवभोजन की व्यवस्था कराया।वहीं निवर्तमान प्रधान दसरथ यादव ने पीड़ित परिवारों को तिरपाल व बर्तन की व्यवस्था कराया।

झुलसी विवाहित बेटी

महाबीर यादव की विवाहित बेटी 34 वर्षीय रंभा जो अपने मायके आई थी जो अचानक लगी आग से चारो तरफ से घिर गई जिससे रंभा,व उसके  छह वर्सिय पुत्र विषाल यादव व तीन वर्षीय पुत्र अनूप यादव बुरी तरह झुलस गए तीनो झुलसे लोगों को प्रधान दसरथ यादव ने 108 एम्बुलेंस से सी एच सी सोनबरसा पहुंचाया जहां प्राथमिक उपचार कर चिकित्सकों ने बलिया रेफर कर दिया।

तीन परिवारों में होनी है शादियां

आग से पीड़ित परिवारों के लिए रविवार का दिन बुरा ही साबित हुआ।इस आग में सबकुछ गंवा चुके परिवारों में चनेश्वर यादव की बेटी लाडली की शादी 18 जून को होना तय है।तो मंजी यादव के लड़के पप्पू यादव की शादी 2 मइ को अर्जुन यादव के पुत्र मिथिलेस यादव का शादी 2 मई को ढेला यादव की पुत्री मंजू की शादी 1 मई को होना तय था जिससे ये परिवार धीरे धीरे अपनी व्यवस्था कर रहे थे जो आग के चपेट में आकर सब कुछ जलकर नष्ट हो गया। इन परिवारों के सामने गंभीर समस्या खड़ा हो गया है कि आखिर क्या करें किसे होगी बेटियों व बेटों की शादी।


आग लगने से बीस बीघा फसल जलकर राख, छिन गया मुंह का निवाला



रतसर (बलिया) गड़वार थाना क्षेत्र के रतसर काली मन्दिर से धनेश्वरनाथ धाम धनौती मार्ग से सटे खेतों में रविवार को अचानक आग लगने से चकचमइनिया  (कुकुरभुक्का ) व धनौती धूरा के दो दर्जन से अधिक किसानों के खेत में खड़ी गेहूं की फसल पलक झपकते ही राख की ढेर में बदल गई। इस अग्निकांड में करीब बीस बीघे में खड़ी गेहूं की फसल आग की भेंट चढ़ गई है। खेतों में आग लगने की सूचना पर मौके पर  सैकड़ों ग्रामीण जुट गये ।  अगलगी की सुचना ग्रामीणों द्वारा स्थानीय पुलिस चौकी को दी गई मौके पर सदल बल पहुंचे चौकी प्रभारी दशरथ उपाध्याय द्वारा घटना की सूचना फायर ब्रिगेड को दी गई। फायर बिग्रेड के आते आते काफी हद तक गामीणों ने आग पर काबू पा लिया। फायर ब्रिगेड की गाड़ी आने पर राख की ढेर से निकल रहे चिंगारी पर पानी डालकर आग को बुझाया गया। इस अगलगी की घटना में धनौती धूरा के किसान हरिहर, कामता, निशार, अबरार, सुगन वर्मा, रामचन्द्र वर्मा, धरमू, तौफीक, राबिया एवं चक चमइनिया के किसान होशिला, ब्रह्मदेव, हरदेव, छबीला, सरल, बेचन, दीप लाल सहित अन्य किसानों की फसल जलकर राख हो गई। मौके पर पहुंचे संबंधित लेखपाल विजय कुमार गुप्ता व शिव शंकर प्रजापति ने क्षति का आंकलन कर पीड़ितों को तत्काल सरकारी सहायता दिलाने का आश्वासन दिया।


अग्निदेव का तांडव, गाय और बछिया की जलकर हुई मौत गेहूं की फसल भी हुई राख


बेल्थरारोड, बलिया। गर्मी के रौंद्र रूप दिखाते ही अग्नि देव भी तांडव नृत्य शुरू कर दिए है।उभांव थाना क्षेत्र के चंदायर बलीपुर गांव में रविवार की शाम चार बजे अज्ञात कारणों से एक मकान से बाहर डेरा स्थित रिहायसी झोपड़ी में आग लगने से हजारों का सामान समेत एक गाय, एक बछिया जल कर मौत के मुंह मे समा गई।

             बताया जाता है कि चंदायर बलीपुर में घर के पास रामानंद प्रसाद का डेरा है जहां रामानंद अपना पशु और बकरियों को खिलाने और बांध कर रखते है। रविवार की शाम को रामानंद खेत के तरफ गए थे कि अचानक घर के सामने मड़ई में से धुआं निकलता देख ग्रामीणों ने शोर मचाया।लोगों के इकट्ठा होते-होते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। आग से मड़ई में बंधी एक गाय,एक बछिया की जल कर मौत हो गयी।इसके साथ ही मड़ई मेंरखा भूसा ,बिस्तर ,चारपाई,कपड़े आदि भी जलकर खाक हो गया।ग्रामीणों ने बड़ी मशक्कत से पानी उड़ेल आग पर काबू पाया,तब तक सब कुछ जलकर स्वाहा हो गया।समाचार लिखे जाने तक लेखपाल या पशु डॉक्टर मौके पर नहीं पहुचे थे।भारी नुकसान से गृह स्वामी का रो-रो कर बुरा हाल है।समाजसेवी मरगूब अख्तर ने मौके पर पहुच ढाढस बढ़ाया तथा आर्थिक सहयोग भी दिया। 

          वही तेलमा जमालुद्दीनपुर में भूसा बनाते समय ट्रैक्टर के इंजन से निकली चिंगारी से लगी आग से 10 एकड़ खड़ी गेंहू की फसल झलकर राख हो गया। अगलगी की घटना में तेज हवा के झोंके ने आग में घी का काम किया। विकराल रूप धारण कर चुकी आग पर काबू पाने के लिए किसानों को भारी मशक्कत करना पड़ा। अपनी मेहनत की कमाई को आग की भेंट चढ़ता देख किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच गई है।

                                   

रिपोर्ट : धीरज सिंह, धनेश पाण्डेय, वी चौबे, संतोष द्विवेदी

No comments