Breaking News

पंचायत चुनाव के मतगणना में एजेंट बनने के लिए बलिया में सैकड़ों ने कराया कोरोना जांच


बलिया । उप्र के पंचायत चुनाव के उपरांत 2 मई को मतगणना को लेकर सरकार द्वारा कोविड को लेकर जारी शासनादेश के बाद मतगणना एजेंट बनने के लिए कोविड़ 19 की जांच जरूरी है।यह सूचना मिलते ही त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों ने मतगणना में भाग लेने के लिए अपनी और अपने एजेंटों की जांच करानी शुरू कर दी है।जिसको लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कोटवां पर गुरुवार को भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

       गौरतलब हैं कि चुनाव आयोग के दिशा निर्देश के अनुसार वही लोग मतगणना एजेंट बनाये जायेगे जिनका करोना रिपोर्ट निगेटिव आएगा।इसकी जानकारी मिलते ही ग्राम प्रधान,जिला पंचायत सदस्य आदि पदों के चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी और उनके समर्थक अस्पताल पर पहुँच गए। भारी संख्या में पहुँचे जिससे कुछ समय के लिए अफरा तफरी की स्थिति बन गई।इसकी सूचना पर बैरिया पुलिस ने मौके पर पहुँच कर स्थिति को नियंत्रित किया। शासन व प्रशासन के लाख समझाने के बावजूद भी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उडाई जा रही हैं वहीं यह सब देखकर भी शासन व प्रसाशन मुकदर्शक बना हुआ हैं।




कोरोना जांच के लिए सीएचसी रेवती पर प्रत्याशियों व समर्थकों की लगी लंबी लाईन


रेवती (बलिया ) शासन द्वारा कोरोना प्रसार को नियंत्रित करने के लिए तमाम कवायदें की जा रही है । 2 अप्रैल को मतगणना से पूर्व एजेन्ट बनने वालों के लिए कोरोना जांच कराये जाने के निर्देश के चलते गुरूवार को लगातार दूसरे दिन भी प्रत्याशियों व उनके समर्थकों की जांच के लिए सीएचसी पर सुबह से लाईन लगी रही। जांच से पूर्व पहले रजिस्ट्रेशन व उसके बाद आरटीसीपी जांच के बाद उनको प्रमाण दी जा रही है। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बीच में पुलिस को भी कडी मशक्कत करनी पड़ रही है। प्रभारी अधीक्षक डाॅ धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि बुधवार को 204  लोगो की जांच हुई थी । जिसमें सभी की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई । गुरूवार की जांच की रिपोर्ट देर सायं तक कन्फर्म हो पायेगा।




पंचायत चुनाव के मतगणना में एजेंट बनने के लिए सैकड़ों ने कराया कोरोना जांच


हल्दी, बलिया । वैश्विक महामारी कोरोना को देखते हुए चुनाव आयोग ने जैसे ही यह घोषणा किया कि वहीं लोग मतगणना का एजेंट बनेंगे जिनका कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव होगी।यह जानकारी होते ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोनवानी में कोरोना जांच कराने वालों का सैलाब उमड़ पड़ा।

 पंचायत चुनाव के मतगणना में एजेंट बनने की मंशा पाले लोग पहुंच गए। क्योंकि 72 घंटे के अंदर का ही रिपोर्ट चाहिए। कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य है। जिसका नेगेटिव प्रमाण मौजूद नहीं होगा उन्हें एजेंट नहीं बनाया जाएगा तथा मतगणना सेंटर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। इस सूचना के बाद  समुदायिक स्वास्थ केन्द्र सोनवानी पर जिला पंचायत सदस्य पद से लेकर ग्राम प्रधान क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशियों में कोरोना जांच कराने के लिए सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गयी।पर्ची कटवाने और कोविड जांच करवाने के लिए सैकड़ो लोगों की लम्बी लाईन लगी हुई थी। गुरुवार को कोरोना जांच के नाम पर उमड़ी भीड़ द्वारा कोविड़ नियमो कि जमकर धज्जियां उड़ायी गयी।देश में कोरोना संक्रमण कि खतरा बढ़ रहा है।वहीं लाइनों में ऐसे खड़े दिखे जैसे कोई रस्सा कसी का खेल चल रहा है।  लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी।दोपहर तक  अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। अस्पताल के अन्दर डाक्टर और अन्य कर्मचारी भी भारी भीड़ के चलते परेशान दिखे।




रिपोर्ट : धीरज सिंह, पुनीत केशरी, एस के द्विवेदी

No comments