Breaking News

विश्व ब्राह्मण दिवस पर वर्तमान परिवेश में आचार्य चाणक्य की प्रासंगिकता विषयक गोष्ठी का हुआ आयोजन


रतसर (बलिया) आदिकाल से लेकर वर्तमान समय तक समाज को दिशा देने का काम ब्राह्मण करता आया है लेकिन वर्तमान परिवेश में वह राजनीति का शिकार होता जा रहा है। इसलिए हमें अपने गौरव व सम्मान को बचाए रखने के लिए एकजूट होने की आवश्यकता है उक्त बातें मंगलवार को विश्व ब्राह्मण दिवस के अवसर पर परशुराम युवा मंच एवं जनऊबाबा साहित्यिक संस्था " निर्झर ''के संयुक्त तत्वाधान में हनुमत सेवा ट्रस्ट जनऊपुर के परिसर में "वर्तमान परिवेश में आचार्य चाणक्य की प्रासंगिकता" विषयक गोष्ठी के आयोजन के अवसर परशुराम युवा मंच के संयोजक सक्षम पाण्डेय ने कही। युवा मंच के मन्त्री आशीष कुमार मिश्रा ने बताया कि आचार्य चाणक्य के अनमोल विचार एवं सुझाव संगठन लोगों तक पहुंचाने का काम करेगा। आचार्य ने देश और धर्म के लिए अपना जीवन त्याग किया था। उन्होंने अपने मान और सम्मान से समझौता नही किया। कार्यक्रम की शुरुआत आचार्य चाणक्य के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। कोरोना महामारी के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने-अपने घरों में ही हवन-पूजन एवं आरती का आयोजन कर मनाया गया। इस अवसर पर रितेश मिश्रा, आकाश मिश्रा, अमन शुक्ला, अनुभव राज, अमृत, शुभम, नवनीत, विनीत, अभिनव, सुधांशु, निरंजन, आशुतोष उपाध्याय मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता निर्झर के संयोजक धनेश कुमार पाण्डेय एवं संचालन अवधेश चौबे ने किया।


रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments