Breaking News

टीएस बंधा के तटवर्ती उत्तर घाघरा के बाढ़ से तो दक्षिण प्रसूत (बरसात) के पानी से है तबाह

 


रेवती (बलिया ) सरयू का तेवर उफान पर है । चांदपुर में सुबह नदी खतरे के निशान 58 मीटर से 59.04 मीटर यानी एक मीटर से ऊपर अब भी बढ़ाव पर है । 

स्थानीय ब्लाक के टीएस बंधा के तटवर्ती उत्तर साईड फ्लड जोन  में बसे गांव सरयू के बाढ़ के पानी से पूरी तरह से घिर गये है । हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि व फसले बाढ़ के पानी में डूबी हुई है । वही बंधा के अंदर दक्षिण साईड बसे दर्जनों ग्राम सभाओं की हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि प्रसूत (बरसात ) के पानी से डूब गई है । भैसहां के हरिजन बस्ती , मरौटी , दलछपरा , रत्तिछपरा , हडियाकला के हरिजन बस्ती आदि गांवों में लोगों की बस्तियां बरसात के पानी से घिर गई है । जल निकासी के अभाव में लोगो के घरो में घरों में पानी घुस गया है। सर्वाधिक प्रभावित गांवों में हडियाकला के हरिजन बस्ती में 50 परिवार तथा भैसहां के पासवान बस्ती 100 परिवार है। जो बरसाती पानी के चलते बाढ़ जैसी स्थिति का सामना करने के लिए विवश है। सुरेमनपुर भाजपा मंडल अध्यक्ष ने बताया भैसहां पासवान बस्ती में बसे परिवार सरयू के कटान विस्थापित है । अभी सरकारी पट्टा का आवंटन नही हो पा रहा है । जिससे आवास से वंचित है । 

जिला पंचायत वार्ड नं सात के सदस्य राजकिशोर यादव ने बताया कि सरयू के जलस्तर में शैने शैने हो रही वृद्धि से देवपुर मठिया रेगुलेटर से सरयू का पानी उत्तर से दक्षिण रिसने से कई दर्जनो ग्राम सभाओं के खेत बरसाती पानी में डूब गये है । सरयू के जलस्तर में घटाव के बाद रेगुलेटर का फाटक खुलने पर ही दक्षिण साइड का खेतो में लगा बरसाती पानी दक्षिण से उत्तर नदी में गिरने के बाद ही राहत मिल सकती है ।


पुनीत केशरी

No comments