Breaking News

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना : लाभार्थी का बैंक में केवाईसी होना जरूरी

 


बैंक में केवाईसी अपडेट होने पर ही मिलेगा योजना का लाभ 


योजना के तहत अब तक पंजीकृत हैं लगभग 71469 लाभार्थी 


बलिया :  प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के तहत पहली बार गर्भवती होने वाली महिलाओं को तीन किश्तों में 5000 रूपये प्रदान किये जाते हैं |  योजना के लाभार्थी की बैंक में केवाईसी (नो योर कस्टमर) होना जरूरी है। केवाईसी  अपडेट होने पर ही लाभार्थी को योजना का लाभ मिल सकेगा। यह जानकारी अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी /नोडल अधिकारी डॉ० सुधीर कुमार तिवारी ने दी। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों कुछ राष्ट्रीयकृत बैंकों का विलय हुआ है|इस  कारण बैंकों के आईएफएससी कोड (भारतीय वित्तीय प्रणाली संहिता) बदल गये हैं | इस वजह से लाभार्थियों को भुगतान संबंधी परेशानी का सामना करना पड़ सकता  है। वह केवाईसी (नो योर कस्टमर) करा लें और नए आईएफएससी कोड की जानकारी स्वास्थ्य विभाग में दर्ज करा दें, ताकि उनका जल्द भुगतान किया जा सके। 

योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक इमरान अहमद ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ-वंदना योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को पोषण के लिए 5000 रुपये का लाभ तीन किश्तों में दिया जाता है। पंजीकरण कराने के साथ गर्भवती को पहली किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूर्ण होने पर तीसरी किश्त में 2000 रुपये दिए जाते हैं। जनपद में योजना के लाभार्थियों को भुगतान किया जा रहा है। योजना के तहत जनवरी 2017 से अब तक (12 अगस्त ) जिले में करीब 28.41 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है। योजना के तहत लगभग 71469 लाभार्थी पंजीकृत हैं। शासन की ओर से पहली बार मां बनने वाली करीब 80416 महिलाओं को लाभ देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उपलब्धि के लिहाज से यह 88.87 प्रतिशत है।


रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments