Breaking News

Akhand Bharat

उपचुनाव में भाजपा की बड़ी जीत, सपा के गढ़ में लहराया भगवा

 



लखनऊ। उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भाजपा ने समाजवादी पार्टी पटखनी देते हुए उसके गढ़ में उसे हराया है। रामपुर में भाजपा प्रत्याशी घनश्याम लोधी ने करीब 42 हजार मतों से समाजवादी पार्टी के आसिम रजा को मात दी। वहीं, आजमगढ़ में भोजपुरी गायक और भाजपा उम्मीदवार दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव के भाई धर्मेंद्र यादव को हराया। भाजपा के लिए यह जीत काफी मायने रखती है, क्योंकि रामपुर को सपा के कद्दावर नेता आजम खां और आजमगढ़ को अखिलेश-मुलायम का गढ़ माना जाता है। 2019 लोकसभा चुनाव में आजमगढ़ से अखिलेश यादव जीते थे। वहीं, 2014 में मुलायम सिंह यादव यहां से सांसद चुने गए थे। उधर, 2019 के लोकसभा चुनाव में आजम खां रामपुर में सांसद बने थे। अब ये दोनों सीटें भाजपा के खाते में चली गई हैं।

रामपुर की लोस सीट पर में आजम खान की गैरमौजूदगी को हार की एक प्रमुख वजह बताया जा रहा है, वहीं आजमगढ़ में भी समाजवादी पार्टी नेताओं का जमीन पर न उतरना पार्टी की हार का एक प्रमुख कारण रहा। हालांकि, इनमें आजमगढ़ सीट का मामला काफी दिलचस्प है, क्योंकि यहां भाजपा के जमीनी कैडर के अलावा पार्टी को जीत दिलाने की बड़ी वजह खुद दिनेश लाल यादव 'निरहुआ' रहे। वही निरहुआ, जिन्हें पिछली बार के लोकसभा चुनाव में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भारी मतों से हराया था।  रामपुर में इस बार केवल 41 प्रतिशत वोटिंग हुई, वहीं आजमगढ़ में 49 प्रतिशत लोगों ने वोट डाला। 2019 के मुकाबले दोनों क्षेत्रों में वोटिंग पर्सेंटेज घटा। चूंकि दोनों जगह सपा ने 2019 में जीत हासिल की थी, इसलिए कम वोटिंग का नुकसान भी सपा को ही उठाना पड़ा।





डेस्क

No comments