Breaking News

Akhand Bharat

खरीफ फसल में मक्का की फसल में फाल आर्मी एंव तना छेदक रोग के प्रकोप से बचाव/सुझाव जारी

 




रिपोर्ट : धीरज सिंह


बलिया। जिला कृषि रक्षा अधिकारी धर्मेन्द्र कुमार सिंह ने बताया है कि वर्तमान खरीफ फसल में मक्का की फसल में फाल आर्मी एंव तना छेदक कीट का प्रकोप कहीं-कहीं परिलक्षित हो रहा है। मक्के की फसल की विशेष निगरानी करते हुए कीट/रोग की संक्रमण होने पर स्थित में पौधे के उक्त भाग को हटा दे, जिससे कीटो का फैलाव अधिक नहीं हो सके। मक्का की फसल में फाल आर्मी एंव तना छेदक कीट से बचाव हेतु आप को सामान्य जानकारी होना चाहिये। उक्त के कम में रोग के प्रकोप से बचाव एंव प्रबन्धन हेतु जारी सुझाव एंव संस्तुतिया निम्न प्रकार है। जिसमें ग्रीष्मकालीन जुताई से सुसुप्तावस्था के प्यूपा नष्ट हो जाते है, लाईट ट्रैप 5 प्रति एकड कि दर से रात्रि के समय लगाने से प्रौढ़ कीट मर जाते है, मक्के कि फसल के चारो तरफ 3-4 कतार में ट्रैप फसल जैसे नैपियर की बुआई करनी चाहिए।

अंतर फसल के रूप में मक्के के साथ लोबिया कि 2:1 के अनुपात में बुआई करनी चाहिए। कार्बोफ्यूरान तीन प्रतिशत सी.जी. 33.3 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर कि दर से बुरकाव अथवा डाईमेथोएट 30 प्रतिशत ई.सी. 660 मिलिलीटर प्रति हेक्टेयर कि दर से 500-1000 लीटर पानी अथवा थैमेथोक्साम 12.60 प्रतिशत + लैम्ब्डा साईहैलोथ्रीन 9.5 प्रतिशत जेड.सी. 125 मिलीलीटर प्रति हेक्टेयर कि दर से 500-600 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करे।

No comments