Breaking News

Akhand Bharat

रामचरित मानस समाज में सामाजिक समरसता स्थापित करने का काम करता है : सक्षम


 




रतसर (बलिया):समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा रामचरित मानस पर उठाए गए सवाल पर पलटवार करते हुए परशुराम युवा मंच के संयोजक सक्षम पाण्डेय ने कहा कि उन्होंने कभी भी रामचरित मानस जैसे ग्रंथ को पढ़ा नहीं है समझा नही है उन्हें ज्ञान नही है अगर उन्हें इसका ज्ञान होता तो प्रतिबंध की बात नहीं करते। मंगलवार को हनुमत सेवा ट्रस्ट जनऊपुर के परिसर में युवा मंच के सदस्यों के बीच उद्गार व्यक्त करते हुए कही। मंच के महामंत्री आशीष कुमार मिश्रा ने बताया कि जिसे रामचरित मानस जैसे ग्रंथ के विषय में ज्ञान नही होगा उसके भाव को नही समझता होगा वही ऐसी बातें करेगा। रामचरित मानस को क्यों बैन करना चाहिए, क्यों प्रतिबन्ध लगाना चाहिए उसमें ऐसा क्या है। मैं कहता हूं उसमें ऐसा कुछ भी नहीं है। किसी भी तरह की भेदभाव पूर्ण बात नहीं लिखी गई है। सक्षम पाण्डेय ने बताया कि रामचरित मानस सभी को जोड़ने का काम करता है। रामचरित मानस सामाजिक समरसता स्थापित करने का काम करता है न कि भेदभाव पैदा करता है। प्रेम भाई चारे का भाव लोगों में उत्पन्न करता है। रामचरित मानस के विषय में सवाल खड़े करने वाले लोगों को रामचरित को पढ़ना चाहिए। उसकी एक-एक चौपाई का अर्थ समझना चाहिए उनको सारे उत्तर वही मिल जाएंगेे।

रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments