Breaking News

Akhand Bharat welcomes you

मां के आशीर्वाद से आंगन में गूंजीं किलकारियां

 


बलिया। इसे चमत्कार कहे या मां काली की कृपा, लेकिन हैं हकीकत, तभी तो उत्तर प्रदेश के बस्ती जनपद के निवासी संज्ञा त्रिपाठी पत्नी मिथिलेश त्रिपाठी को जब मेडिकल साइंस ने मां बनने में अक्षम होने की बात कह कर निराश कर दिया था तब पकड़ी काली धाम की काली मां की कृपा और मंदिर के पुजारी रामबदन भगत द्वारा दिए गए औषधि के प्रभाव से उसकी सूनी गोद भर गई और आंगन में किलकारियां गूंजने लगी।



बच्चा होने के उपरांत संज्ञा जब मां काली के दरबार में पूजा चढ़ाने आईं तो उसने बताया कि बच्चे की चाह में उसने तमाम बड़े चिकित्सकों के पास गई और इलाज कराया, लेकिन हर जगह उसे निराशा हाथ लगी। इसके बाद तो उसने उम्मीद ही छोड़ दी। इसी दौरान किसी ने उसे पकड़ी भूमि स्थित काली मंदिर जाने की सलाह दी। तब वह पकड़ी धाम स्थित काली मंदिर पहुंची और मंदिर के पुजारी और मां काली के अनन्य उपासक रामबदन भगत से अपनी समस्या बताई। उसकी व्यथा सुन पुजारी ने पहले उन्हें मां का प्रसाद दिया और  बकाया और फूल वाली औषधियां देते हुए डेढ़ माह तक उसके नियमित प्रयोग की सलाह दी। कुमकुम बताती हैं कि इसके बाद मानों चमत्कार सा हुआ हुआ और डेढ़ माह बाद उसका गर्भ ठहर गया और आज गोद में बच्चा खेल रहा हैं। बताया कि इतना ही नहीं गर्भावस्था के दौरान सुगर लेवल भी बढ़ गया था, लेकिन मां काली के प्रसाद से वह भी कम हो गया।


डेस्क 

No comments