Breaking News

इजरायल ने तैयार किया कोरोना वायरस का वैक्सीन, कभी भी हो सकती है घोषणा ?





नई दिल्ली : इजरायल के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है।  की घोषणा कभी भी की जा सकती है. ये जानकारी इजरायल से आ रही मीडिया रिपोर्ट से सामने आई है। दरअसल, इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने फरवरी में ही अपने वैज्ञानिकों से कहा था कि इस बीमारी का टीका युद्ध स्तर पर परीक्षण करके तैयार करें। अब वहां की मीडिया के हवाले ये जानकारी सामने आ रही है कि टीका तैयार किया जा चुका है और इसकी घोषणा किसी भी वक्त हो सकती है। गौरतलब है कि बुधवार को ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित कर दी है और अब तक दुनिया भर के वैज्ञानिकों की ओ से यही कहा जाता रहा है कि इसका टीका सामने आने में कम से कम साल भर लग जाएंगे।


एक इजरायली दैनिक हएर्त्ज ने वहां के मेडिकल सूत्रों के हवाले से गुरुवार को दावा किया है कि इजरायल के प्रधानमंत्री की निगरानी में चलने वाले इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रिसर्च के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के नमूनों की बेहतर छानबीन करके उसकी एक वैक्सीन तैयार कर ली है। हालांकि, ये वैक्सीन (टीके) कोरोना वायरस को खत्म करने में कितनी कारगर और सुरक्षित हैं, इसके लिए अभी कई परीक्षण किए जाने हैं, जिसमें समय लग सकता है। हालांकि, वहां के रक्षा मंत्रालय ने इस तरह की खबरों की कोई पुष्टि नहीं की है। वहां के रक्षा मंत्रालय ने इतना भर कहा है कि 'हमारे वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस पर शोध करके उसके नेचर को समझा है और इसके बायोलॉजिकल सिस्टम को बारीकी से समझकर इसकी पहचान की है।' इसके साथ ही मंत्रालय ने कहा है कि 'इंस्ट्टीट्यूट में रिसर्च पर 50 से ज्यादा अनुभवी वैज्ञानिक काम कर रहे हैं और इस वायरस का इलाज ढूंढ़ रहे हैं। '
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने पिछले एक फरवरी को ही इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रिसर्च के वैज्ञानिकों को कोरोना वायरस का टीका तैयार करने का आदेश दिया था। 


हालांकि, सामान्य प्रक्रिया के तहत इस तरह की वैक्सीन तैयार करने में लंबा वक्त लग जाता है, लेकिन जिस तरह से कोरोना वायरस विश्वव्यापी महामारी घोषित हो चुका है तो इजरायली अखबार के मुताबिक इसे जल्द से जल्द इजाद करने का काफी दबाव है और उसी आधार पर वैज्ञानिक भी रिसर्च में जुटे हुए हैं। इजरायल के एक और लोकप्रिय पोर्टल वाईनेट ने तीन हफ्ते पहले ही दावा किया था कि कोरोना वायरस के सैंपल के 5 शिपमेंट जापान, इटली और दूसरे देशों से परीक्षणों के लिए इजरायल मंगाए गए हैं, जिसपर वैज्ञानिकों ने काम करना शुरू कर दिया है।
अगर वाकई इजरायल इस तरह के किसी कोरोना टीके को इजाद कर लेने की घोषणा कर भी देता है तो उसे मरीजों में इस्तेमाल के लिए कई तरह के कड़े प्रवधानों से गुजरना पड़ेगा।


 इंसानों पर इस्तेमाल से पहले उसे जानवरों पर प्रयोग किया जाएगा और उसके इफेक्ट और साइड इफेक्ट की पड़ताल भी करनी पड़ेगी। सारे परीक्षणों और प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद इस वैक्सीन को मंजूरी के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन को भी मंजूरी के लिए भेजना पड़ेगा और वहां से मंजूरी मिलने के बाद ही इसे प्रभावित देशों में भेजा जा सकेगा। बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन बुधवार को कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित कर चुका है।
डेस्क

No comments