Breaking News


14 जून को मिथुन राशि में प्रवेश कर रहा सूर्य, जानिए क्या होगा असर?




   
नई दिल्ली। मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा, तेज, पराक्रम और सरकारी सेवाओं का प्रतिनिधि ग्रह सूर्य 14 जून 2020 को रात्रि 11.52 बजे बुध की राशि मिथुन में प्रवेश करने जा रहा है। सूर्य इस राशि में 16 जुलाई 2020 तक रहेगा। लगभग एक माह के इस गोचर में सूर्य सभी राशियों को प्रभावित करेगा। जिस जातक की जन्मकुंडली में सूर्य शुभ स्थिति में होता है उसे जीवन में सफल होने से कोई रोक नहीं सकता, लेकिन जिसका सूर्य ही खराब हो उसे बाकी दूसरे शुभ ग्रह भी अपना असर नहीं दिखा पाते।
आइए जानते हैं सूर्य के मिथुन राशि में गोचर का आपकी राशि पर क्या होगा असर...
सूर्य का गोचर लेकर आ रहा है इन लोगों के लिए खुशखबरी
मेष राशि : मेष राशि के लिए सूर्य का गोचर तीसरे भाव में होगा। यह भाई-बंधुओं, पराक्रम, प्रतिष्ठा का स्थान है। सूर्य का यह गोचर आपकी बौद्धिक क्षमता में वृद्धि करेगा। आप अब तक यदि किसी बात का निर्णय नहीं ले पा रहे हैं तो अब आप सटीक और सही निर्णय ले पाएंगे। हालांकि ध्यान रहे अपनी वाणी और क्रोध पर नियंत्रण रखना होगा। कटु वाणी का उपयोग बिलकुल ना करें, वरना संबंध खराब हो जाएंगे। कार्यक्षेत्र में आपको अधिकारियों से तालमेल बनाने में दिक्कत आ सकती है। पिता का साथ मिलेगा लेकिन उनकी बात माननी होगी। साझेदारी में काम के लिए समय शुभ है।

वृषभ राशि : आपके लिए सूर्य का गोचर द्वितीय भाव में होगा। यह धन स्थान है इसलिए सूर्य के प्रभाव से आप आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन जाएंगे। अब तक यदि आजीविका के साधन तलाश रहे हैं तो इस गोचर में आपकी वह तलाश पूरी हो सकती है। नौकरीपेशा के साथ ही बिजनेस से जुड़े लोगों को भी यह गोचर लाभ देगा। इस गोचर में आपके स्वास्थ्य में सुधार आएगा, लेकिन सावधान रहना जरूरी होगा। हृदय रोगी विशेष सावधानी रखें। पारिवारिक जीवन के लिए सूर्य का यह गोचर आपके लिए बेहतर है।

मिथुन राशि : सूर्य का गोचर इसी राशि में लग्न स्थान में हो रहा है। यह गोचर आपकी सेहत के साथ आपके कामकाज को भी प्रभावित करेगा। सेहत में सुधार तो आएगा, लेकिन आपके स्वभाव में उग्रता आ सकती है। नए बिजनेस शुरू करने के लिए समय ठीक है। जॉब की तलाश पूरी होगी, जो पहले से जॉॅब में हैं उन्हें तरक्की मिल सकती है। पारिवारिक जीवन में आपकी हठधर्मी नहीं करना है, वरना रिश्ते बिगाड़ लेंगे। इससे आपके सम्मान में भी कमी आ सकती है। प्रेम संबंधों में पारदर्शिता रखने के कारण उन्हें बचाने में कामयाब होंगे।

कर्क राशि : कर्क राशि के लिए सूर्य का गोचर बारहवें भाव में होगा। इस भाव में सूर्य की मौजूदगी आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि करेगी। आपको कोई ऐसा कार्य प्राप्त होगा, जिसमें आप देश-विदेश में ख्याति और सफलता अर्जित करेंगे। आर्थिक स्थिति के लिए यह गोचर अत्यंत शुभ है। आपके धन कोष में वृद्धि होगी और जो काम आप हाथ में लेंगे वह निश्चित रूप से पूरा होगा, लेकिन साथ ही यह भी ध्यान रखना होगा कि आपको अनावश्यक खर्चों को रोकना होगा, वरना जिस तेजी से पैसा आएगा वो चला भी जाएगा। नया बिजनेस सेटअप लगा सकते हैं। नौकरी में तरक्की के चांस हैं।
कार्यक्षेत्र में विस्तार होगा
सिंह राशि : इस राशि के लिए सूर्य 11वें भाव में गोचर करेगा। यह आय स्थान है। यदि आप सरकारी सेवा क्षेत्र में काम कर रहे हैं तो आय में वृद्धि होगी लेकिन यदि आप बिजनेस करते हैं तो आय सामान्य रहेगी, कोई विशेष लाभ नहीं होने वाला है। इस गोचर में आपके प्रभाव में जरूर वृद्धि होगी और आपकी दोस्ती का दायरा बढ़ेगा। पारिवारिक जीवन भी सुखद रहेगा। जीवनसाथी से प्रेम बढ़ेगा। नौकरी में अधीनस्थ कर्मचारियों के साथ तालमेल अच्छा हरेगा। कार्यक्षेत्र में ऊर्जा बनी रहेगी। स्वास्थ्य बेहतर रहेगा। विद्यार्थियों को सफलता मिलने के योग हैं।

कन्या राशि : दशम स्थान आजीविका का स्थान होता है और कन्या राशि के लिए इसी स्थान में सूर्य का आना अत्यंत शुभ है। आपके कार्यक्षेत्र में विस्तार होने की पूरी संभावना बन रही है। आय के नए स्रोत विकसित होंगे। व्यापारियों को भी लाभ होगा। नौकरीपेशा को अपने वर्तमान कार्य में कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिल सकती है। आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी। यह गोचर आपकी कार्यक्षमता में वृद्धि करेगा, लेकिन अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। विद्यार्थियों को अधिक परिश्रम करने की आवश्यकता है, वरना उनका एक्जाम रिजल्ट बिगड़ सकता है।

तुला राशि : नवम स्थान भाग्य भाव में सूर्य आने से आपका भाग्य चमकने वाला है और आप एक प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में परिवार में, समाज में उभरने वाले हैं। यह गोचर भाग्योदय करने वाला होगा जिससे आपको कोई बड़ा धन लाभ हो सकता है। पुराना निवेश लाभ देगा। आप जिस काम में हाथ डालेंगे वह सफलतापूर्वक पूरा होगा। इस दौरान आपका रूझान आध्यात्मिकता की ओर रहेगा। कार्यक्षेत्र में विस्तार होगा। नया बिजनेस शुरू कर सकते हैं। मानसिक रूप से यह गोचर शांति प्रदान करने वाला रहेगा। आत्मविश्वास और पराक्रम में वृद्धि होगी। संपत्ति संबंधी कार्य होंगे।

वृश्चिक राशि : अष्टम स्थान में सूर्य का आना वृश्चिक राशि वालों के लिए शुभ नहीं कहा जा सकता। अष्टम का सूर्य मानसिक और शारीरिक रूप से कष्ट देता है। इसलिए अपने स्वास्थ्य का विशेषतौर पर ध्यान रखें। खासकर खानपान में सावधानी बरतें। इस दौरान वाहन-मशीनरी का प्रयोग करते समय भी सावधानी रखें। यह समय आपके निजी जीवन के लिए भी संकटपूर्ण हो सकता है। अपने क्रोध और अधिक अहम की भावना के कारण आपके अपने आपसे दूर हो जाएंगे। इस दौरान परिवार में बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर भी विपरीत असर पड़ सकता है।

आर्थिक स्थिति होगी अच्छी
धनु राशि : धनु राशि के लिए सप्तम स्थान में सूर्य का आना आपके वैवाहिक जीवन को प्रभावित करेगा। जीवनसाथी के साथ वैचारिक मतभेद होंगे। साझेदारी में कोई बिजनेस कर रहे हैं तो उसमें भी अनावश्यक मतभेद उभरेंगे। यह गोचर रिश्तों के साथ-साथ आपकी आर्थिक स्थिति को भी प्रभावित करेगा। संपत्ति और बचत में कमी आएगी। पुराने निवेश में नुकसान उठाना पड़ सकता है। हालांकि कुछ मायनों में यह गोचर लाभ भी देगा। नौकरीपेशा लोगों की मेहनत के अनुरूप उन्हें अधिकारियों से प्रशंस मिलेगी। गोचर के अंतिम पांच दिनों में कोई सुखद समाचार मिल सकता है।

मकर राशि : छठा भाव रोग स्थान होता है। इस स्थान में सूर्य के आने का असर आपकी सेहत पर पड़ सकता है। मस्तिष्क और नेत्र रोग परेशान करेंगे। इस दौरान शरीर में जल की कमी ना होने दें। यह गोचर आपके लिए लाभप्रद रहेगा। यह समय आपके अर्थ संचय की दृष्टि से बेहतर है। कर्ज मुक्ति होगी। संपत्ति की खरीदी-बिक्री में लाभ होगा। पारिवारिक जीवन के लिए समय उत्तम है। समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी। अविवाहित युवकों के लिए विवाह के रास्ते खुलेंगे। मित्रों से पूर्ण सहयोग मिलेगा। नौकरी में लाभ की स्थिति रहेगी।

कुंभ राशि : पंचम स्थान में सूर्य का गोचर आपके संतानपक्ष के लिए उत्तम है। संतान पक्ष की ओर से कोई शुभ समाचार मिल सकता है, लेकिन 10 साल से छोटे बच्चे हैं तो उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। पारिवारिक जीवन में भाई-बहनों के साथ चल रहा मनमुटाव दूर होगा। आपके अहंकार में इस दौरान वृद्धि जरूर होगी लेकिन संयम से काम लेंगे तो व्यवहार संतुलित रहेगा। नौकरीपेशा के लिए अच्छे अवसर आ रहे हैं। नया बिजनेस सेटअप शुरू कर सकते हैं। दांपत्य जीवन में किसी प्रकार का संकट आ सकता है, इसलिए वाणी संयमित रखें।

मीन राशि : चतुर्थ स्थान में सूर्य का आना आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूत तो बनाएगा, लेकिन आपका पारिवारिक जीवन थोड़ा गड़बड़ा सकता है। परिजनों के बीच किसी बात पर मनमुटाव हो सकता है। यदि आप जॉब की तलाश में है तो इस गोचर में आपकी तलाश पूरी हो जाएगी। नया स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो जरूर करें लाभ मिलेगा। विद्यार्थियों के लिए कड़ी मेहनत का समय रहेगा। स्वास्थ्य बेहतर रहेगा। बीमारियों पर खर्च में कमी आएगी। कुल मिलाकर इस गोचर में आपके सुखों में वृद्धि होगी।

क्या करें सूर्य के गोचर में
सूर्य के मिथुन राशि में गोचर के दौरान सभी राशि वालों को सूर्यदेव की विशेष आराधना करना चाहिए ताकि सूर्य का पूर्ण प्रभाव आपके जीवन में दिख सके। इसके लिए ये उपाय किए जाना चाहिए-
प्रत्येक रविवार के दिन गाय को गेहूं और गुड़ खिलाएं।

जिन लोगों की कुंडली में सूर्य खराब हैं, वे प्रत्येक रविवार को बिना नमक का भोजन करें।

सूर्य को प्रतिदिन लाल फूल डालकर जल का अर्घ्य देने से सूर्य की कृपा प्राप्त होगी।

गुड़हल का पौधा लगाकर उसकी सेवा करें। लाभ होगा।

- लाल चंदन का तिलक पूरे गोचर के दौरान प्रतिदिन लगाएं।




डेस्क

No comments