Breaking News


जानें किसने दी राष्ट्रहित में स्वदेशी अपनाने की सलाह



दुबहड़। भारत की संप्रभुता एवं आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने का बीड़ा अब जनपद के संगीतकार एवं नाट्यकर्मियों ने उठाया है। कोरोना से उत्पन्न विषम परिस्थिति के सामान्य होते ही गायक, गीतकार एवं रंगकर्मी अपने-अपने विधा के माध्यम से चीन के धोखाबाजी चाल के खिलाफ जन -जागरण अभियान चलाएंगे ।

इस आशय का निर्णय रविवार को शिवपुर दीयर नई बस्ती ब्यासी ढाला स्थित मंगल चबूतरे पर हुई कलाकारों की बैठक में लिया गया। गीतकार एवं सामाजिक चिंतक बब्बन विद्यार्थी ने कहा कि सन् 1962 से लेकर अब तक चालबाज देश चीन का भारत के प्रति रवैया कभी भी ठीक नहीं रहा है। अब वक्त आ गया है हमें "एक पंथ- दो काज" की नीति का अमल करना होगा। चीन निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार कर जहां हम अपने दुश्मन देश को आर्थिक क्षति पहुंचा सकते हैं, वही अपने देश को आत्मनिर्भर बना कर भारतीयों का सीना ऊंचा कर सकते हैं।

 रंगकर्मी पन्नालाल गुप्ता ने कहा की पड़ोसी देश पाकिस्तान और चीन विश्व में अशांति फैलाना चाहते हैं। हम देशवासी एक होकर दोनों देशों का डटकर मुकाबला करें। बैठक के दौरान कलाकारों ने संकल्प लिया कि अब से वे हर चीनी सामानों का बहिष्कार करेंगे।  गायक राजेश पाठक, अशोक मधुकर, कृष्णा हमदर्दी, उमाशंकर पाठक, पिंटू ठाकुर, सरल पासवान, दीपक दीवाना, रफीक शाह आदि ने भी अपने विचार रखे। संचालन- अन्नपूर्णानंद तिवारी ने किया।


रिपोर्ट:- नितेश पाठक

No comments