Breaking News

जाने कहाँ, पुलिस टीम के पहुंचने से रफ्फू चक्कर हुए शराब के अवैध कारोबारी



मनियर, बलिया। आबकारी विभाग द्वारा दो दिन मनियर क्षेत्र में कच्ची शराब पकड़ने की योजना विफल हुई। जबकि सूत्रों की मानें तो मनियर एवं रेवती थाना क्षेत्र में अवैध रूप से संचालित दारू की भट्टियों की भरमार है। मोबाइल के इस युग में इस धंधे में संलिप्त लोगों को आबकारी विभाग की टीम की पहुंचने की सूचना पहले ही मिल जाती है।
 स्थानीय लोगों का कहना है कि दारू का धंधा मनियर थाना क्षेत्र के दियारे में कुटीर उद्योग के रूप में फल फूल रहा है। इस धंधे के फलीभूत होने से लाखों रुपए का राजस्व का घाटा सरकार को लग रहा है। युवा वर्ग में दारु पीने की लत से परिवारिक समरसता खराब हो रहा है। अक्सर पति पत्नी के बीच विवाद की जड़ घर में पति का दारू के नशे में आने को लेकर है। मनियर के पूर्व ब्लाक प्रमुख निर्भीक नारायण सिंह उर्फ मानिक जी ने पहले ही पुलिस पर आरोप लगा चुके हैं कि पुलिस संरक्षण में मनियर के दियारा क्षेत्र में अवैध रूप से कच्ची दारू की भट्ठियां संचालित होती है। इस धंधे में संलिप्त लोगों द्वारा पुलिस को मोटी रकम का चढ़ावा मिलता है। फिर जब आबकारी टीम आए तो दारू बनाने व बेचने वालों को सूचना कौन देगा? यही नहीं चर्चा तो इस बात की भी है कि जो लोग आबकारी टीम को अपने गांव में बिक रहे दारू की सूचना देते हैं। मनियर पुलिस सूचना पर कार्यवाई करने के बजाय  सूचना देने वाले को ही परेशान करती है। शिकायत करने वाले के मनोबल को को तोड़ दिया जाता है। सूचना की गोपनीयता भंग की जाती है। मनियर थाना क्षेत्र के सूर्यपुरा निवासी एक युवक द्वारा आबकारी विभाग को गांव में अवैध रूप से बिक रही दारू की शिकायत किया गया था। जांच के लिए जब आबकारी टीम मनियर थाने पर पहुंची तब तक दारू बेचने वालों को सूचना किसी माध्यम से मिल गई और सतर्क हो गए।मनियर पुलिस सूचना देने वाले के पिता को मनियर थाने लाई और उस पर आरोप लगाया गया कि गलत सूचना तुम्हारे यहां से दी जा रही है। चर्चा तो इस बात की भी है कि उसे बुरा भला भी कहा गया। जब वह अपने मोबाइल में  अवैध रूप से दारू बेचे जाने की वीडियो क्लिप दिखाया तब उसे मनियर पुलिस छोड़ी।  सोमवार को भी आबकारी टीम मनियर थाना क्षेत्र के मुड़ियारी गांव में पहुंची थी लेकिन वहां भी दारू नहीं मिला ।
इस संबंध में आबकारी अधिकारी बलिया भुआल सिंह से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि आजमगढ़ की टीम आई थी और मनियर पुलिस के सहयोग से काफी संख्या बल के साथ हम लोग मुड़ियारी गांव में पहुंचे थे लेकिन वहां दारू नहीं मिला। दारू बेचने वालों को सूचना कौन दे देता है? तो उन्होंने कहा कि पता नहीं इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है? जब यह पूछा गया कि दारू बेचने वालों के विरुद्ध जो शिकायत करता है उसको थाने पर बुलाकर पुलिस परेशान करती है तो इस पर उन्होंने कहा कि इसकी मुझे जानकारी नहीं है।



रिपोर्ट : राममिलन तिवारी

No comments