Breaking News

> > >

पुलिस की सख्ती से रेवती में ऐतिहासिक विसर्जन जुलुस की परम्परा टूटी


रेवती (बलिया) पुलिस की सख्ती से रेवती में ऐतिहासिक विसर्जन की 70 वर्ष पुरानी परम्परा टूट गयी। बगैर जुलुस व नगर भ्रमण के प्रतिमाएं पंडाल से सीधे विसर्जन स्थल कोलनाला कुन्ड व दहताल प्रतिमाएं पहुंच गयी । 

सुबह पूजा समितियों के सदस्य परम्परागत जुलुस निकालने पर लिए अड़ गये । थाना में मौजूद एस डी एम बांसडीह दुष्यंत कुमार व सी ओ दीपचंद से अलग अलग पूजा समितियों के सदस्यों ने नगर भ्रमण के साथ जुलुस निकालने की अनुमति दिये जाने की मांग की। एस डी एम ने कहा कि इस बार स्थिति कुछ बदली हुई है । सरकार के गाईड लाईन के तहत आप सबको सोशल डिन्टेसिंग के तहत मूर्ति रखने की अनुमति प्रदान की गई । इस बार आप सब पंडाल से प्रतिमा बिना नगर भ्रमण के सीधे विसर्जन स्थल ले जाय । अगले वर्ष तक स्थिति सामान्य होने पर पुनः आप सब परंपरागत तरीके से जुलुस निकाल लीजियेगा । कुछ पूजा समिति के सदस्य प्रारम्भ में भ्रमण के साथ जुलुस निकालने पर अड़े रहे । बाद एस एच ओ प्रवीण कुमार सिंह के नेतृत्व में एस आई परमानंद त्रिपाठी , अखिलेश नारायण सिंह , मायाशंकर दूबे आदि ने अलग अलग पूजा पांडलो में पहुंच कर सख्ती के साथ एक एक मूर्तियों को विसर्जन के लिए प्रस्थान कराया । सबसे पहले तीन व दो नंबर की प्रतिमाएं प्रस्थान की । इसके बाद एक नं , चार नं के बाद सभी प्रतिमाओं का क्रम लग गया । आधा दर्जन प्रतिमाएं दह ताल शेष कोलनाला कुन्ड में एक एक कर विसर्जन हेतू प्रस्थान कर गई । प्रतिमाओं के शांति पूर्ण ढंग से प्रस्थान करने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली । इस मौके पर नगर पंचायत के अध्यक्ष  प्रतिनिधि कनक पांडेय , संजय चौरसिया, टी एन उपाध्याय , विजय कुमार , मनीष केशरी , गूड्डू स्वर्णकार , विजेंद्र राम , भोला ओझा , पप्पू पांडेय , रेवती रमन सिंह , राजन केशरी  आदि मौजूद रहें ।

------

पुनीत केशरी

No comments