Breaking News

Akhand Bharat

राष्ट्रीयकृत बैंक न होने से परेशान हो रही जनऊपुर न्याय पंचायत की 20 हजार की आबादी


 



रतसर (बलिया):विकास खण्ड गड़वार क्षेत्र के न्याय पंचायत जनऊपुर के आस-पास दर्जनों गांवों के ग्रामीणों ने क्षेत्र में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा खुलवाने की मांग शासन से की है। शिकायत है कि क्षेत्र में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा न होने से लोगों को बैंकिंग कार्य के लिए छः से 15 किमी की दूरी तय करनी पड़ती है। किसान सम्मान निधि,ई श्रमिक पेंशन योजना, दिव्यांग पेंशन, विधवा पेंशन,वृद्धा पेंशन एवं छात्रवृत्ति आदि के तहत खाता खुलवाने के लिए लोगों को रतसर,गड़वार, सुखपुरा या फिर जिला मुख्यालय जाना पड़ता है। दूरी होने की वजह से बहुतेरे लोगों का खाता बन्द हो चुका है। इस न्याय पंचायत से सटे नूरपुर,तपनी,जगदेवपुर, अरईपुर, मसहां, सिकटौटी,एकडेरवा, बाराबांध,बसदेवा, निहालपुर,चाफी,पड़वार, बदनपुरा सहित दजनों गांव के वाशिंदों ने न्याय पंचायत जनऊपुर में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा खोलने की मांग की है। ताकि उन्हें सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ आसानी से मिल सके। जनऊपुर निवासी 85 वर्षीय शिक्षक परमहंस पाण्डेय ने बताया कि उम्र के इस पड़ाव में अपनी पेंशन लेने के लिए 6 किमी दूरी तय करके जाना बहुत मुश्किल है। 90 वर्षीय भरत राम ने बताया कि वृद्धा पेंशन के लिए गांव से 8 किमी दूरी तय करके जाना पड़ता है। विना किसी सहारे के जाना मुश्किल हो जाता है। गृहणी शिखा पाण्डेय ने बताया कि पीएमजेएसवाई के तहत जननी सुरक्षा योजना का खाता आठ किमी दूर खुलवाया गया है। जनता की सुविधा को देखते हुए ग्रामीणों ने सरकार से क्षेत्र में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा खोलवाने की मांग की है।

रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments